2011 वर्ल्ड कप फ़ाइनल जीतने के बाद सचिन तेंदुलकर को कंधे पर उठाने वाले इस धुरंधर बल्लेबाज ने इंटरनेशनल क्रिकेट को कहा अलविदा

20

2007 के t-20 विश्वकप और 2011 विश्व कप में जीत में टीम इंडिया का मुख्य हिस्सा रहे भारतीय टीम के धुरंधर बल्लेबाज यूसुफ पठान ने अंतराष्ट्रीय क्रिकेट को आज याने 26 फरवरी को अलविदा कह दिया है, अपनी तेज तर्रार बल्लेबाजी से विपक्षी टीम को परेशान करने वाले बल्लेबाज ने 2007 में T-20 विश्वकप से अपने इंटरनेशनल कैरियर की शुरुआत की थी जहां उन्होने अपना पहला ही मैच पाकिस्तान के खिलाफ खेला था वहीं उन्होने अपना वनडे डेब्यू 2008 में किया था पठान का अंतराष्ट्रीय कैरियर भले ही छोटा था लेकिन इसी बीच वो 2011 वनडे वर्ल्ड कप और 2007 के वर्ल्ड कप का भी हिस्सा रह चुके थे। 

यूसुफ पठान ने साझा किया Emotional संदेश 

यूसुफ पठान ने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहते हुए कहा कि मुझे आज भी वो दिन याद है जब मैंने पहली बार भारत के लिए भारतीय क्रिकेट टीम के लिए जर्सी पहनी थी, ये केवल मेरे लिए ही नहीं लेकिन मेरे परिवार से लेकर कोच के लिए भावुक क्षण थे, इसके बाद मैंने अंतराष्ट्रीय क्रिकेट और IPL भी खेला लेकिन आज ना वर्ल्ड कप का फ़ाइनल है और न IPL का फ़ाइनल है और आज मैंने ये फैसला लिया है कि मै सभी format को अलविदा कहना चाहूंगा वहीं इस सफर में मै अपने परिवार वालों और दोस्तों का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं जिन्होंने इस सफर में मेरा साथ दिया। 

वर्ल्ड कप फ़ाइनल में सचिन तेंदुलकर को कंधे पर उठाकर घुमाने वाले पल को किया याद 

वहीं यूसुफ पठान ने अपने जारी बयान में उस बात का भी जिक्र किया जहां वो वर्ल्ड कप फाइनल जीतने के बाद सचिन तेंदुलकर को अपने कंधे पर उठाया था उन्होने कहा वो दिन मै कभी नहीं भूल सकता इस दौरान उन्होने अपने उन कप्तानों को भी धन्यवाद किया जिनकी अगुवाई में वो खेले थे।