17 जून को जुमे की नमाज के बाद यति नरसिंहानंद जाएंगे जामा मस्जिद, किया ऐलान

अपने बयानों के लेकर चर्चा में रहने वाले यति नरसिंहानंद गिरि फिर से सुर्ख़ियों में हैं। अब वे बीजेपी से निष्काषित नेता नुपुर शर्मा के समर्थन में खड़े हो गये हैं। उन्होंने यह ऐलान किया है कि मैं जामा मस्जिद जाकर मुसलमानों को बताना चाहता हूं कि उनके धर्मगुरु, मुसलमान और अन्य लोग इस पूरे विवाद पर क्या कहते हैं।

यति नरसिंहानंद ने एक वीडियो जारी कर कहा है कि अगले शुक्रवार, 17 जून को इस्लामिक किताबों को लेकर, जुमा की नमाज के बाद दिल्ली की जामा मस्जिद जाऊंगा। उस दिन वहां लाखों लोग इकट्ठा होते हैं, बड़े-बड़े मौलाना होते हैं। मैं वहां उन लोगों को दिखाना चाहता हूं कि जिन बातों को लेकर वह हम पर फतवा जारी करते हैं ये उनकी ही किताब में लिखा है।’

यति नरसिंहानंद गिरी ने आगे कहा कि ‘हम कुछ गलत या झूठ नहीं बोल रहे हैं। हम इस्लामिक किताबों में लिखी बातों को ही बोल रहे हैं। इस पर वो सर काटने की धमकी देते हैं। जिस तरह से इस्लामिक आतंकवाद फैला रहे हैं, यह उनकी किताब में लिखा है। मैं किताब, सीडी और मोबाइल लेकर अकेले जामा मस्जिद आऊंगा।’

उन्होंने कहा कि ‘नुपुर शर्मा के साथ जो किया गया, वो उनकी गलती नहीं है। ये भारत के कायर नेताओं का इस्लाम से डर या वो बिक गए हैं, उनके कारण हमारी यह दुर्गति है।’

महंत गिरी ने कहा, ‘मुझे पता है कि वहां जाने पर मेरी हत्या भी हो सकती है लेकिन ऐसे जीने से अच्छा तो वहां जाकर मर जाना ही ठीक है। बड़े शर्म की बात है कि ऐसा लगा रहा है, जैसे इस्लामी गुलामी इस देश में भी आ गई है, इसे सब स्वीकार कर लें लेकिन मैं ये सब स्वीकार नहीं कर पाऊंगा। मैं जामा मस्जिद जाकर लोगों को उनकी ही किताब के बारे में जानकारी देना चाहता हूं।’

गौरतलब है कि यति नरसिंहानंद अक्सर अपने बयानों और धार्मिक टिप्पणी को लेकर विवादों में रहते हैं। पैगंबर मोहम्मद पर की गई टिप्पणी के बाद एक तरफ जहां विवाद खड़ा हो गया है, वहीं नुपुर शर्मा के समर्थन में यति नरसिंहानंद गिरी का ये बयान सामने आया है।