आखिर क्यों PM Narendra Modi के जन्मदिन पर ट्रेंड कर रहा है National Unemployment Day?

PM Narendra Modi का आज 70वां जन्मदिन है, पीएम मोदी के जन्मदिन पर बीजेपी सप्ताह दिवस के रूप में मना रही है। इस मौके पर भारत में रात 12 बजे से ही #HappyBdayNaMo, #PrimeMinister #NarendraModiBirthday और #NarendraModi सोशल मीडिया पर ट्रेंड होने लगा था। लेकिन इसी के साथ एक और हैशटैग है जो ट्विटर पर टॉप ट्रेंड में शामिल है #NationalUnemploymentDay और #राष्ट्रीय_बेरोजगार_दिवस।

बड़ी संख्या में लोग PM Narendra Modi को जन्मदिन की बधाईयाँ तो दे रहे हैं लेकिन युवा वर्ग राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस की बात करता दिख रहा है।

Also Read – Birthday Special – Prime Minister Narendra Modi अपने जन्मदिन पर इस साल निभा पाएंगे यह परंपरा, नहीं मिल पाएगा हर साल मिलने वाला अमूल्य बर्थडे गिफ्ट

आखिर क्या है पूरा मामला

सोशल मीडिया पर लोग PM Narendra Modi के जन्मदिन पर उनके वादों को याद दिलाकर राष्ट्रीय जुमला दिवस ट्रेंड करा रहे हैं तो वहीं कांग्रेस युवाओं की अवाज बन कर उनके लिए रोजगार माँग कर दिवस ट्रेंड करा रही है।

राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस हैशटैग के साथ पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर लिखा है कि ‘यही कारण है कि देश का युवा आज राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस मनाने पर मजबूर है. रोज़गार सम्मान है। सरकार कब तक ये सम्मान देने से पीछे हटेगी?’

बेरोजगारी के मुद्दे को ऐसे समझिए

  • राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) के अनुसार इस साल अप्रैल-जून तिमाही में देश की जीडीपी में 23.9 फ़ीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी, जो पिछले 40 वर्षों में सबसे भारी गिरावट है।
  • सेंटर फ़ॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनमी के आँकड़ों के अनुसार छह सितंबर वाले सप्ताह में भारत की शहरी बेरोज़गारी दर 8.32 फ़ीसदी के स्तर पर चली गई।
  • सेंटर फ़ॉर इंडियन इकोनॉमी (CMII) के आकड़ों के मुताबिक़, लॉकडाउन लगने के एक महीने के बाद से क़रीब 12 करोड़ लोग अपने काम से हाथ गंवा चुके हैं। अधिकतर लोग असंगठित और ग्रामीण क्षेत्र से हैं।
  • CMII के आकलन के मुताबिक़, वेतन पर काम करने वाले संगठित क्षेत्र में 1.9 करोड़ लोगों ने अपनी नौकरियां लॉकडाउन के दौरान खोई हैं।
  • अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन और एशियन डेवलपमेंट बैंक की एक अन्य रिपोर्ट में यह अनुमान लगाया है कि 30 की उम्र के नीचे के क़रीब चालीस लाख से अधिक भारतीयों ने अपनी नौकरियाँ महामारी की वजह से गंवाई हैं। 15 से 24 साल के लोगों पर सबसे अधिक असर पड़ा है।