पढ़िए क्यों अमर सिंह ने नशे में धुत कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर को पीटा था? क्या थी इसके पीछे की वजह

पूर्व समाजवादी पार्टी नेता और राज्यसभा सांसद अमर सिंह का शनिवार को निधन हो गया. अमर सिंह के निधन की खबर सामने आते ही राजनीतिक गलियारें में सन्नाटा छा गया, अमर सिंह ऐसे नेता थे जिनका संबंध किसी एक पार्टी तक सीमित नही था. उनके रिश्ते हर पार्टी के नेताओं के साथ थे और अच्छे थे. हालाँकि उन्होंने राजनीति में अपना अधिकतर समय समाजवादी पार्टी के साथ बिताया. वहीँ अमर सिंह विवादों में रहने वाले नेताओं में भी गिने जाते रहे हैं.

जब कांग्रेस के नेता को अमर सिंह ने पीट दिया था 

अमर सिंह से जुड़ा एक किस्सा भी बड़ा मशहूर है कि उन्होंने कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर की पिटाई कर दी थी. इसके बारे में खुद अमर सिंह ने बताया था. दरअसल दिल्ली में सतीश गुजराल के यहाँ एक पार्टी थी, जिसमें देश के कई बड़े नेता और हस्तियाँ शामिल थी. यहाँ शराब और कबाब का दौर चल रहा था, इसी बीच शराब के नशे में अमर सिंह और मणिशंकर के बीच कहासुनी हो गयी और अमर सिंह ने उन्हें पीट दिया था.

शराब के नशे में हुई मारपीट 

दरअसल शराब के नशे में मणिशंकर अय्यर ने अमर सिंह को गालियाँ देनी शुरू कर थी और अपशब्द कहने लगे. इसके बाद अमर सिंह ने उन्हें कहा कि आधे घंटे का वक्त देता हूँ शांत हो जाये वरना यहीं पीट दूंगा. हालाँकि अमर सिंह के मुताबिक़ इसके बाद मणिशंकर अय्यर मुलायम सिंह यादव को अपशब्द कहने लगे और गालियाँ देने लगे. इसके बाद मणिशंकर अय्यर अमर सिंह के पास पहुंचे और बोले आधे घंटे हो गये अब पीटो. बताया जाता है कि इसके बाद अमर सिंह मणिशंकर अय्यर की गर्दन पकड़ कर नीचे गिरा दिया और ऊपर चढ़कर पिटाई कर दी.

हालाँकि जब मणिशंकर अय्यर ने पूछा कि आधे घंटे तक तुमने कुछ क्यों नही कहा तो अमर सिंह का जवाब था कि हम मानव हैं क्षत्रिय है भगवान ने भी शिशुपाल की 100 गालियां सुनने के बाद चक्र उठाया था, मैं तुम्हारी हत्या तो करन नहीं सकता इसलिए पीट ही दिया. वही अमर सिंह ने इस बात को भी स्वीकार किया था कि उन्होंने सोनिया गांधी को प्रधानमंत्री बनने से नही रोका बल्कि ये समाजवादी पार्टी के नेताओं और सांसदों का फैसला था और इसी फैसले को मैंने लोगों के सामने रखा था.

अमर सिंह और मुलायम सिंह यादव के रिश्ते भी काफी करीबी थे. दोनों नेता मिलकर प्रदेश में राजनीति करते थे. बड़े बड़े नेताओं, अभिनेताओं और उद्योगपतियों के साथ अच्छे संबंध रखने वाले अमर सिंह काफी लंबे वक्त से बीमार थे और भारत में इलाज करवाने के बाद वे सिंगापुर चले गये थे जहाँ इलाजके दौरान शनिवार को उनका निधन हो गया था.