आखिर कैसे मोदी के आगे मुहब्बत हार ही गई? पढ़िए पूरी खबर

कहा जाता है मन ना मिलने पर कोई रिश्ता टिक नही पाता. रिश्ते में कडवाहट आई जाती है या फिर रिश्ते में इनती खटास आ जाती है कि साथ रहना मुश्किल हो जाता है. इसका एक ताजा उदाहरण उत्तर प्रदेश के कानपुर से सामने आया है जहाँ एक शादी सिर्फ प्रधानमंत्री मोदी को लेकर हुए मतभेद की वजह से टूट गयी. आइये जानते हैं पूरी कहानी.

मतभेद की वजह से टूट गयी शादी 

दरअसल मिली ख़बरों के मुताबिक़ कानपूर में एक शादी तय हुई और शादी के महज दो दिन पहले ही शादी टूट गयी. इसके पीछे का कारण था कि दोनों में पीएम मोदी को लेकर मतभेद था. दरअसल शादी से दो दिन पहले जब दोनों आपस में बात कर रहे थे तभी दोनों की पीएम मोदी को लेकर बहस शुरू हो गयी. सरकार नौकरी कर रही लड़की का कहना था कि पीएम मोदी के नीतियों के कारण ही देश की आर्थिक हालत खराब है. वहीँ मोदी समर्थक लड़के का कहना था कि वो मोदी के खिलाफ एक शब्द भी नही सुन सकता.

लड़की ने कहा कि नही बदलूंगी अपने विचार 

दोनों के  बीच बहस तेज हो गयी. लड़की द्वारा मोदी विरोधी बातें सुनकर लड़के ने साफ़ कर दिया कि मोदी के खिलाफ एक शब्द भी नही सुनेगा वहीँ लड़की ने भी कह दिया कि वो किसी के लिए भी अपने विचार को नही बदलेगी. नतीजा ये रहा है कि शादी की तैयारियों के बीच दोनों ने आपस में निर्णय लिया कि वे दोनों साथ नही रह सकते. इसलिए से शादी नही करेंगे, लिहाजा ये शादी पीएम मोदी पर हुए विवाद के शादी टूट ही गयी.

जैसा कि हमने इस रिश्ते में देखा कि राजनीतिक मतभेद के आगे शादी टूट गयी, मोहब्बत हार गयी.  आज के समय अधिकतर ये देखने को मिल रहा है कि राजनीतिक मतभेद की वजह से रिश्तों में कडवाहट आ रही है. आपसी बहस में लोग आपा खोने लगे है. रिश्ते खराब हो रहे हैं. राजनीतिक मतभेद को अपने रिश्तों से दूर रखें. मतभेद होने चाहिए पर मनभेद नही होना चाहिए.