जानिए Kate Rubins ने अमरीकी चुनाव में अंतरिक्ष से वोट कैसे डाला

कोरोना महामारी के बावजूद अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में जम के वोटिंग हुई है। इस बार के चुनाव में यह वोटिंग न केवल धरती पर हुई है बल्कि अंतरिक्ष से भी वोटिंग हुई है। करोड़ों की संख्या में डाले गए इन फोटो में से एक वोट बेहद ही खास है क्योंकि वह वोट अंतरिक्ष से डाला गया है। जी हांँ इस साल NASA की अंतरिक्ष यात्री केट रूबिंस ने अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) से अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में वोटिंग की है।

अंतरिक्ष से वोट
Photo – The Indian Express

कैसे हुई अंतरिक्ष से वोट की प्रक्रिया ?

वाकई में यह सोचने वाली बात है की हज़ार मील प्रति घंटा की रफ़्तार से पृथ्वी का चक्कर काटने वाले ISS से वोट कैसे दिया गया होगा। दरअसल यह वोटिंग अब्सेंटी बैलट से होने वाली वोटिंग जैसी है। अमेरिका में कोई भी व्यक्ति बिना पोलिंग बूथ पर गए अब्सेंटी बैलट का उपयोग कर चुनाव में वोट डाल सकते हैं। इस सुविधा का उपयोग दूसरे देश में कार्यरत कर्मचारी सैनिक और नासा के अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा वोटिंग के लिए किया जाता है।

Also Read – सर्दियों में कफ की समस्या से बचना है तो ये खाएँ और इन चीजों से रहें दूर 

अंतरिक्ष यात्रा से पहले ही अंतरिक्ष यात्री को वोट के लिए फेडरल पोस्ट कार्ड एप्लीकेशन फॉर्म भरना होता है जो की वोटिंग के लिए रजिस्ट्रेशन फॉर्म की तरह उपयोग में लाया जाता है। अंतरिक्ष यात्री के सभी डिटेल्स वाला यह फॉर्म NASA के सचिवालय में जमा करवाया जाता है। और वोटिंग की अनुमति के बाद ही वहां से उन्हें एक सीक्रेट इलेक्ट्रॉनिक बैलट पेपर मिलता है। चुनाव वाले दिन अंतरिक्ष यात्री को एक ईमेल भेजा जाता है जिसमें एक खास लिंक होती है। जिसको दबाते ही अंतरिक्ष से वह वोट धरती पर काउंटिंग के लिए क्लर्क दफ्तर में चला जाता है

 

केट ने कैसे डाला यह वोट ?

मतदान की समय मत का गुप्त होना जरूरी होता है। को मद्देनजर रखते हुए गेट रूबिंस ने अपने सोने वाले एरिया में एक वोटिंग बूथ बनाया था। वोटिंग बूथ के केट ने आईएसएस वोटिंग बूथ का स्टीकर लगाया था। हालांकि ये कोई पहली दफा नहीं जब किसी अंतरिक्ष यात्री ने अंतरिक्ष से  वोटिंग की हो। 1997 में अंतरिक्ष यात्री डेविड वुल्फ ने अंतरिक्ष से सबसे पहली बार वोटिंग लाई थी। 2016 बेबी एडवर्ड माइकल पिंक और ग्रेग चैमिटॉफ ने भी अंतरिक्ष से मतदान किया था। 23 साल पहले पास हुए बिल में अंतरिक्ष के दौरान यात्रियों को मत देने का अधिकार दिया गया था।