ज्ञानवापी में शिवलिंग होने की बात कहने पर उत्तरप्रदेश के भाजपा नेता प्रशांत पटेल उमराव को मिली गला काटने की धमकी

उत्तर प्रदेश से एक सनसनीखेज खबर सामने आ रही है। जिसके अनुसार उत्तर प्रदेश भाजपा के युवा नेता और प्रदेश प्रवक्ता तथा सुप्रीम कोर्ट में अधिवक्ता प्रशांत पटेल उमराव को फोन पर जान से मारने की धमकी मिली है।

इसके बाद भाजपा नेता प्रशांत ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है। प्रशांत पटेल के अनुसार उनके इंस्टाग्राम पर भी उनके लिए ‘सर तन से जुदा’ का फतवा जारी हुआ है। शिकायत के बाद उन्हें पुलिस सुरक्षा मुहैया करवाई गई है।

प्रशांत पटेल को धमकी देने वाले अज्ञात आरोपी पर प्राथमिकी दर्ज करके जाँच शुरू कर दी गई है। इस घटना की जानकारी स्वयं भाजपा नेता प्रशांत पटेल ने 2 जून 2022 को दी। प्राथमिकी के अनुसार बीजेपी नेता को धमकी एक टीवी डिबेट में ज्ञानवापी विवादित ढाँचे में शिवलिंग होने की बात कहने को लेकर दी गई है।

इस धमकी को लेकर प्रशांत पटेल ने नोएडा के इकोटेक-3 थाने में प्राथमिकी दर्ज करवाई है। शिकायत में कहा गया है, “2 जून को दोपहर 12.57 पर मेरे मोबइल पर 9477298804 नंबर से फोन आया। फोन करने वाले ने मुझे गालियाँ दीं और कहा कि तुम TV डिबेट में मेरे नबी के खिलाफ गलत बोलते हो। ज्ञानवापी मे शिवलिंग नही बल्कि फव्वारा है। जब मैंने उसका नाम पूछा तो उसने मुझे कुछ भी बताने के बजाए मेरा पता निकलवाने की धमकी दी। इसके साथ उसने कहा कि तुम बाहर निकलो मैं एक महीने के अंदर तम्हारा गला काट दूँगा। हम तो मरने और मारने के लिए तैयार बैठे हैं, लेकिन अब तुम नहीं बचोगे।”

प्रशांत पटेल ने शिकायत में आगे कहा है, “फोन करने वाले ने मुझे गंदी-गंदी गालियाँ भी दी। मैं सार्वजानिक जीवन में हूँ और मेरा बाहर भी आना-जाना लगा रहता है। मुझे दी गई धमकी को गंभीरता से लिया जाए। पहले भी इस तरह की धमकी देकर हत्याएँ की गई हैं। मुझे धमकी देने को गिरफ्तार करने के कानूनी कार्रवाई की जाए।” पुलिस ने प्रशांत पटेल को सुरक्षा देने के साथ FIR दर्ज कर अन्य जरूरी कार्रवाई किए जाने की पुष्टि की है।

पुलिस ने प्रशांत पटेल की शिकयत पर अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ उसके मोबाइल नंबर को आधार बना कर FIR दर्ज कर ली है। FIR नंबर 245/2022 के तहत दर्ज हुए इस केस में IPC की धारा 504 व 506 के तहत केस दर्ज हुआ है।

इस घटना जी जानकारी प्रशांत पटेल ने एक ट्वीट के माध्यम से भी दी