उत्तरप्रदेश सरकार ने 6 बाबा बिरयानी आउटलेट्स को किया सील, सैंपल पाए गए खाने के लिए अनुपयुक्त

उत्तरप्रदेश के कानपुर शहर में शुक्रवार की नमाज के बाद 3 जून को हुए दंगों के लिए जिम्मेदार लोगों पर एक कार्रवाई के तहत कानपुर में जिला प्रशासन द्वारा 6 बाबा बिरयानी रेस्तरां बंद कर दिए गए हैं। जानकारी अनुसार विभिन्न आउटलेट्स से परीक्षण के लिए इकट्ठा किये गए सैंपल आगरा लाये गए थे, जिन्हे खाने के लिए अनुपयुक्त पाया गया। इसके चलते उनके लाइसेंस रद्द कर दिए गए।

कानपुर शहर के जिला मजिस्ट्रेट ने कहा,“विभिन्न खाद्य दुकानों से भोजन के नमूने लिए गए और आगरा में परीक्षण के लिए भेजे गए। रिपोर्ट में 6 दुकानों के नमूने मानव उपभोग के लिए अनुपयुक्त पाए गए। उसके आधार पर उनके लाइसेंस रद्द कर दिए गए हैं। ”

भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा द्वारा की गई टिप्पणी के जवाब में 3 जून को हुए कानपुर दंगों की जांच कर रही एसआईटी ने बुधवार को बाबा बिरयानी के मालिक मुख्तार बाबा को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपी हयात जफर हाशमी के कानपुर स्थित एनजीओ मौलाना मोहम्मद अली जौहर फैन्स एसोसिएशन को मुख्तार बाबा का समर्थक बताया जा रहा है। मामले में पहले से हिरासत में लिए गए संदिग्ध से पूछताछ के दौरान उसका नाम सामने आने के बाद से ही हिंसा के बाद से एसआईटी और कानपुर पुलिस उस पर नजर रखे हुए है।