यूपी उपचुनाव: अखिलेश यादव का गढ़ ध्वस्त, आजम खान के गढ़ रामपुर में भी बीजेपी ने खिलाया कमल का फूल

उत्तरप्रदेश: उत्तरप्रदेश में एक बड़े राजनीतिक विकास में, भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार दिनेश लाल यादव ने रविवार को समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के गृह क्षेत्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव में जीत हासिल की।

आजमगढ़ सीट से सपा ने धर्मेंद्र यादव और बसपा ने शाह आलम को मैदान में उतारा था, जिन्हें गुड्डू जमाली के नाम से जाना जाता है।

हाल ही में हुए राज्य विधानसभा चुनावों में विधायक चुने जाने के बाद उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के इस्तीफे के कारण लोकसभा सीट खाली हुई थी।

रामपुर से भाजपा ने घनश्याम सिंह लोधी को मैदान में उतारा था जो हाल ही में पार्टी में शामिल हुए थे। वहीं, सपा प्रत्याशी असीम राजा को आजम खान ने चुना था। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने रामपुर से चुनाव नहीं लड़ा।

भाजपा उम्मीदवार लोधी ने कहा,” मैं अपनी जीत पार्टी के कार्यकर्ताओं को समर्पित करता हूं। वे दिन-रात लगातार काम कर रहे हैं। मैं रामपुर के लोगों को धन्यवाद देना चाहता हूं। भाजपा हमेशा से जनता के विकास के लिए काम करती रही है।’

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव बीएल संतोष ने कहा, “इतिहास बना है। रामपुर लोकसभा उपचुनाव में बीजेपी ने 37,797 वोटों से जीत हासिल की है। आजमगढ़ की भी जीत होने वाली है। सांप्रदायिक, विभाजनकारी, अल्पसंख्यक तुष्टीकरण की राजनीति के अंत ने दस्तक दी है। यह जनादेश पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा संचालित विकास की राजनीति और उसमें सीएम योगी आदित्यनाथ के सहयोग के लिए है।

उत्तरप्रदेश के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा “लोग समाजवादी पार्टी से ऊब और थक चुके हैं। लोग अब और दंगे नहीं चाहते। वे शांति चाहते हैं। वे विकास चाहते हैं। ”

हाल ही में हुए राज्य चुनाव में उत्तर प्रदेश विधानसभा के लिए चुने जाने के बाद सपा नेता आजम खान के इस्तीफे के बाद रामपुर लोकसभा की सीट खाली हो गई थी। खान 2019 के लोकसभा चुनाव में रामपुर सीट से सांसद चुने गए थे।