संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत की बड़ी जीत, सलाहकार समिति के लिए चुनी गई भारतीय राजनयिक

संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत को महत्वपूर्ण जीत हाथ लगी है. भारतीय राजनयिक विदिशा मैत्रा को जनरल असेंबली के सहायक अंग में संयुक्त राष्ट्र सलाहकार समिति के लिए चुना गया है. यूएन में भारत के स्थायी मिशऩ में तैनात प्रथम सचिव विदिशा मैत्रा ने 126 वोट प्राप्त किए हैं. बता दें कि सलाहकार समिति की नियुक्ति 193 सदस्यीय महासभा करती है. सदस्यों का चयन व्यापक भौगोलिक प्रतिनिधित्व, व्यक्तिगत योग्यता और अनुभव के आधार पर किया जाता है.

विदिशा मैत्रा संयुक्त राष्ट्र संघ मे महत्वपूर्ण पद पर चुनी गई

भारत को संयुक्त राष्ट्र संघ में बड़ी कामयाबी मिली है. विदिशा मैत्रा प्रशासनिक औऱ बजटीय मुद्दों से संबंधित सलाहकार समिति में 64 मतों के मुकाबले 126 से जीत हासिल की है. मैत्रा एशिया-प्रशांत राज्यों के समूह के दो नामांकित उम्मीदवारों मे से एक थी. समूह में इराक के अली मोहम्मद फेक अल-दबग ने 64 मत प्राप्त किए. भारत की यह जीत ऐसे समय में आई है जब भारत जनवरी 2021 से शुरु होने वाले दो साल के कार्यकाल के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में गैर-स्थायी सदस्य के रुप में काम करेगा.

यह भी पढ़ें-  विज्ञान के क्षेत्र मे ख्याति प्राप्त इस महान शख्स का आज है जन्मदिवस

संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने एक वीडियो संदेश मे कहा कि मैत्रा को शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र ACABQ  में संयुक्त राष्ट्र के सदस्य राज्यों द्वारा भारी समर्थन द्वारा चुना गया. तिरुमूर्ति ने विश्वास व्यक्त किया कि मैत्रा एक स्वतंत्र, उद्देश्यपूर्ण और लैंगिक समानता के परिप्रेक्ष्य को ध्यान में रख कर काम करेंगी. तिरुमूर्ति ने उन सभी सदस्यों राज्यों का आभार व्यक्त किया जिन्होंने इस महत्वपूर्ण चुनाव में भारत का साथ दिया है.

Also read-  Joe Biden Fought More On Trump’s Perceived Failures, Read How He Widens Lead?

तिरूमूर्ति ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के बजट में दबाव बढ़ने पर भारत की ACABQ  की सदस्यता विशेष रुप से प्रासंगिक है. भारत के पास संयुक्त राष्ट्र के लिए पेशेवर ऑडिटिंग अनुभव लाने और संयुक्त राष्ट्र निकायों में उत्कृष्ट पेशेवरों का योगदान देने का एक गजब रिकार्ड है.