सुब्रमण्यम स्वामी के बाद अब उमा भारती का छलका दर्द, कहा ‘राम’ भाजपा की बपौती नही !!

राममंदिर निर्माण के लिए होने जा रहे भूमिपूजन में अब केवल एक दिन का ही समय बचा है. इस बीच भूमिपूजन में नही बुलाए जाने को लेकर भाजपा नेता पार्टी और राम को लेकर तरह-तरह के बयान देने लगे हैं. सुब्रमण्यम स्वामी के बाद अब उमा भारती ने कहा है कि राम या अयोध्या भाजपा की बपौती नही है औऱ ना ही इन पर किसी का पेंटेट है. राम को ना मानने वाले चाहे किसी भी धर्म या पार्टी से हों वह अपनी राय दें सकते हैं. उमा भारती ने कहा कि राम का नाम अनंत है उन पर आदमी विशेष का अधिकार नही हो सकता. बता दें कि इससे पहले सुब्रमण्यम स्वामी ने भी एक न्यूज चैनल से बात करते हुए कहा था कि राम मंदिर निर्माण में प्रधानमंत्री मोदी का कोई योगदान नही है.

उमा भारती

उमा भारती ने कहा राम भाजपा की बपौती नही

राममंदिर निर्माण के लिए होने जा रहे भूमिपूजन को लेकर बीजेपी नेताओं में आपस में ही तकरार शुरु हो गई है. कार्यक्रम मे नही बुलाए जाने को लेकर पार्टी नेता पार्टी गाइडलाइन्स से हटकर बयान देने पर उतारू हो गए हैं.

बीजेपी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने पार्टी कार्यकर्ताओं को समझाते हुए कहा है कि राम का नाम या अयोध्या भाजपा की बपौती नही है. जो भाजपा में हैं और जो नही हैं वह भी राम को मानते हैं. चाहे वह किसी भी धर्म या जाति के हों पूरी दुनिया के लोग राम को मानते हैं और वह उन पर आस्था रखते हैं.

बेचारी उमा भारती, राम मंदिर भुमी पूजन में बुलाया नही तो रोते हुए भङक रही है 😂😂😂😂

Posted by भंवरलाल परमार on Monday, August 3, 2020

उन्होंने कहा कि जो लोग राम को मानते हैं वह सभी यह अधिकार रखते हैं कि वह इसमें राय दें. भारती ने कहा है कि अगर हम यह मान रहे हैं कि राम के नाम पर हमारा पेंटेट है तो यह गलत क्योंकि राम अनंत हैं लेकिन हमारा अंत निश्चित है.

उमा भारती ने यह बयान ऐसे समय में दिया है जब ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि अयोध्या में होने जा रहे राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम में बीजेपी की वरिष्ठ नेता उमा भारती को आमंत्रित किया जा सकता है. उमा भारती ने साफ कर दिया है कि वह इस कार्यक्रम में भाग नही लेंगी.

सुब्रमण्यम स्वामी भी दे चुके हैं ऐसा ही बयान

इससे पहले सुब्रमण्यम स्वामी ने भी ऐसा ही बयान दिया था. एक न्यूज चैनल से बात करते हुए उनसे जब पूछा गया कि आपको भूमिपूजन में बुलाया गया है या नही तो इस पर जवाब देते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा था कि राममंदिर निर्माण में प्रधानमंत्री मोदी का कोई योगदान नही है. राममंदिर निर्माण में जिन लोगों ने योगदान दिया है उनमें पीवी नरसिम्हा, राजीव गांधी औऱ अशोक सिंहल का नाम सबसे ऊपर है. उन्होंने कहा कि अगर राजीव गांधी दोबारा प्रधानमंत्री बनते तो राममंदिर बहुत पहले बन चुका होता.