उद्धव ठाकरे कल, 30 जून को करेंगे फ्लोर टेस्ट का सामना, राज्यपाल ने कहा सत्र की वीडियो टेपिंग की जाए

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने राज्य की विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया है और उद्धव ठाकरे को कल, गुरुवार (30 जून) को सदन के पटल पर अपना बहुमत सिद्ध करने के लिए कहा है।

राज्यपाल ने आदेश दिया कि महाराष्ट्र विधानसभा में विश्वास मत की प्रक्रिया कल शाम 5 बजे तक समाप्त हो जाए और सत्र की वीडियोग्राफी की जाए।

राज्यपाल कोश्यारी ने अपने पत्र में फ्लोर टेस्ट का आदेश देते हुए कहा कि महाराष्ट्र में वर्तमान राजनीतिक स्थिति “एक बहुत ही खतरनाक तस्वीर पेश करती है।”

फ्लोर टेस्ट की अपनी मांग के समर्थन में, राज्यपाल ने सात निर्दलीय विधायकों से प्राप्त एक पत्र का हवाला दिया और मीडिया का दावा है कि 39 विधायकों ने महाविकास अघाड़ी सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था।

कोश्यारी ने कहा,“विपक्ष के नेता ने व्यक्तिगत रूप से मुझसे मुलाकात की और मुझे राज्य की राजनीतिक स्थिति के बारे में बताया गया और उसके बाद, उन्होंने एक पत्र प्रस्तुत किया जिसमें कहा गया था कि मुख्यमंत्री ने विधानसभा में बहुमत खो दिया है। विपक्ष के नेता द्वारा प्रस्तुत पत्र में अलोकतांत्रिक तरीकों से किसी भी राजनीतिक सौदेबाजी से बचने के लिए जल्द से जल्द फ्लोर टेस्ट का अनुरोध किया गया है। ”

बागी शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे ने ऐलान किया है कि वह अहम फ्लोर टेस्ट के लिए कल मुंबई जाएंगे। वह असंतुष्ट विधायकों के एक समूह के साथ असम के गुवाहाटी में डेरा डाले हुए हैं। उनका कहना है कि उनके पास 50 सांसदों का समर्थन है।

शिंदे ने टिप्पणी की,“मैं विधानसभा के फ्लोर टेस्ट में हिस्सा लेने के लिए कल मुंबई में रहूंगा। मैंने महाराष्ट्र और उसके लोगों के लिए प्रतिष्ठित कामाख्या मंदिर में प्रार्थना की।”

राज्यपाल द्वारा फ्लोर टेस्ट का अनुरोध किए जाने के बाद उद्धव ठाकरे सुप्रीम कोर्ट में अपील करने जा रहे हैं। ऐसे समय में जब शीर्ष अदालत ने अभी तक 16 असंतुष्ट विधायकों को बर्खास्त करने की प्रक्रिया के बारे में फैसला नहीं किया है, उद्धव ठाकरे कानूनी सलाह ले सकते है कि क्या राज्यपाल उन्हें बहुमत सिद्ध करने के लिए मजबूर कर सकते हैं अथवा नहीं। मामले की अगली सुनवाई 11 जुलाई को निर्धारित की गई है।