राजदीप सरदेसाई ने पूर्व राष्ट्रपति के निधन की गलत खबर देने पर मांगी माफी, लोगों ने जमकर किया ट्रोल

भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की हालत नाजुक बनी हुई है और उन्हें वेटिंलेटर पर रखा गया है. इस बीच गुरुवार को उनके निधन कि गलत सूचना देने कि लिए टीवी पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने माफी मांग ली है. बता दें कि गुरुवार को सोशल मीडिया पर उनके मौत की खबर अचानक वायरल होने लगी थी. सभी नेता औऱ पत्रकार उनके मौत की खबर के आने के बाद उन्हें श्रद्धाजंलि देने लगे इसी कड़ी में टीवी पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने भी प्रणव मुखर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया था. उन्होंने ट्वीट कर लिखा ‘फेयरवेल प्रणव दा.’ हालांकि वायरल हो रहे न्यूज को फर्जी बताते हुए प्रणव के बेटे ने उनकी मौत का खंडन किया जिसके बाद अपने इस ट्वीट को लेकर राजदीप सरदेसाई ने माफी मांगी है. हालांकि इस दौरान लोगों ने उन्हें काफी भला-बुरा कहा.

पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी

पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन की फेक न्यूज वायरल

भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन की गलत खबर देने के बाद वरिष्ठ टीवी पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने माफी मांग ली है. प्रणव मुखर्जी की 10 अगस्त को आर्मी एंड रेफरल अस्पताल में उनके ब्रेन क्लॉट की सर्जरी हुई थी. इसके बाद से उनकी सेहत में कोई बदलाव नजर नही आया है औऱ उन्हें अभी भी वेटिंलेटर पर रखा गया है. इन सबके बीच गुरुवार को उनके ऩिधन की खबर अचानक सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी. वरिष्ठ टीवी पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने भी उनके निधन को लेकर ट्वीट किया. उन्होंने लिखा ‘फेयरवेल प्रणव दा’. हालांकि बाद में पता चला की यह फेक न्यूज थी औऱ पूर्व राष्ट्रपति अभी भी जिंदा हैं. इसके बाद राजदीप सरदेसाई ने फिर से ट्वीट कर लोगों से माफी मांगी है.

ट्वीट कर मांगी माफी

राजदीप सरदेसाई ने इसके बाद फेक खबर के झांसे में आने के लिए ट्वीट कर लोगों से माफी मांगी है. उन्होंने ट्वीट कर कहा-

‘’प्रणव दा के निधन पर फेक खबरों से भ्रमित होने के लिए माफी चाहता हूं. मैं इस फर्जी खबर के कारण दिल की गहराईयों से व्याकुल हूं. ट्वीट करने से पहले मुझे इसे सत्यापित कर लेना चाहिए था. यह मेरे लिए बहुत ही अन-प्रोफेशनल था. सभी से माफी और परिवार के लिए प्रार्थनाएं.’’

लोगों ने जमकर ट्रोल किया

राजदीप सरदेसाई के ट्वीट पर लोगों ने उन्हें जमकर भला-बुरा कहा है.

लालितादित्य ने ट्वीट कर कहा-

आप चिंता न करिए हम आपकी ट्वीट को सीरियस नही लेते.

डॉ.कुनाल गुप्ता नाम के यूजर ने लिखा –

आप पत्रकारिता के एथिक्स कैसे समझोगे जब आपने हमेशा एक पार्टी के लिए चाटुकारिता की है.

तो वहीं इडियन नाम के य़ूजर्स ने लिखा-  ‘फर्जी न्यूज के चैंपियन’

दीप्ति नाम के य़ूजर ने लिखा है-

बेशरमी शब्द अब फिर से परिभाषित हुआ है. यह कोई पहली फर्जी खबर नही है बल्कि यह आपने पहली बार स्वीकार किया है.