टिकटॉक की फिर से भारत में हो सकती है वापसी, ये कंपनियां है खरीदने की होड़ में शामिल

भारत ने हाल ही में पबजी समेत 118 औऱ चाइनीज ऐप पर प्रतिबंध लगा कर चीन को बड़ा झटका दिया है. इस बीच भारत मे प्रतिबंधित ऐप टिकटॉक को लेकर नई खबर आई है. माना जा रहा है कि जापानी कंपनी सॉफ्टबैंक ग्रुप कार्प भारत में टिकटॉक के एसेट्स को खरीदने की कोशिश कर रही है. इसके लिए सॉफ्टबैंक भारतीय साझेदार की तलाश में है. इसी सिलसिले में सॉफ्टबैंक ग्रुप की रिलायंस जिय़ो और एयरटेल से बात चल रही है. हालांकि जिओ औऱ एय़रटेल ने इस मामले में अभी तक कुछ नही कहा है.

टिकटॉक
Photo-punjabkesari.in

लद्दाख सीमा पर चीन के साथ तनातनी के बीच हुए झ़ड़प में 20 भारतीय जवानों की शहीद होने के बाद देश मे चीन के खिलाफ गुस्से का माहौल था. जिसके बाद भारत ने आर्थिक स्ट्राइक करते हुए जुलाई में 59 चाइनीज ऐप को प्रतिबंधित कर दिया था. इसमें टिकटॉक भी शामिल था. भारत सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए कहा था कि यह कंपनियां यूजर्स के डाटा चीन सरकार के साथ साझा कर रही हैं.

Also Read-  TikTok wants help from Reliance Industries to make a comeback

भारत में टिकटॉक के पाप्यूलरिटी का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि भारत में टिकटॉक के 20 करोड़ से ज्यादा यूजर्स थे. इसके कुल यूजर्स का 30 फीसदी हिस्सा भारत में था. टिकटॉक ने यूजर्स के मामले में फेसबुक को भी पीछे छोड़ दिया था.

सॉफ्टबैंक द्वारा खरीदने पर कैसे पुख्ता होगी सुरक्षा

चाइनीज कंपनी टिकटॉक को जापानी कंपनी सॉफ्टबैंक ग्रुप या अन्य भारतीय कंपनियों के खरीदने पर सुरक्षा को देखते हुए इसके चाइनीज सॉफ्टवेयर टेक्नॉलाजी को बदला जा सकता है. सबसे बड़ी बात यह है कि इन सॉफ्टवेयर को बदलने की कई विदेशी और भारतीय कंपनियों के पास विशेषज्ञता हासिल हैं जैसे की सिस्को, जूनिपर नेटवर्क्स, एरिक्सन आदि कंपनियां टिकटॉक में लगे उपकरणों को आसानी से बदल कर इसे स्वदेशी रुप दे सकती हैं.

Also Read-   Walmart joins Microsoft to buy video app TikTok