भारतीय टीम की इस यंग ब्रिगेड ने कंगारुओं को किया पस्त, बार्डर – गावस्कर सीरीज की अपने नाम

97

भारत ने ऑस्ट्रेलिया को टेस्ट सीरीज में 2-1 से मात देकर सीरीज अपने नाम कर ली है, ये सीरीज जीत इसलिए भी  काबिले तारीफ है क्योंकि आखिरी और निर्णायक टेस्ट मैच में विराट कोहली, जासप्रीत बुमराह, आर अश्विन जैसे टेस्ट speclist प्लेयर नहीं थे बावजूद इसके टीम इंडिया ने ये जीत अपने नाम कर सीरीज अपने नाम कर ली है आइए बताते हैं इस मैच में किन क्रिकेटर ने जीत में अहम निभाई है। 

मोहम्मद सिराज 

इंडिया
Aajtak

वैसे तो हर भारतीय टीम के प्लेयर के लिए ये आखिरी टेस्ट मुकाबला बेहद खास रहेगा लेकिन मोहम्मद सिराज के लिए ये मैच और भी ज्यादा यादगार रहने वाला क्योंकि इस मैच में उन्होने international cricket में पहली बार पांच विकेट हासिल किए हैं, इस दौरान उन्हे  जहनी तौर पर भी बहुत सी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था जहाँ पहले उनके पिता की मृत्यु ने उन्हे तोड़ दिया था तो वहीं ऑस्ट्रेलियन फैंस द्वारा उनके ऊपर नस्लभेदी टिप्पड़ी भी की गई थी इन परेशानियों का सामना करते हुए उन्होंने आखिरी टेस्ट मैच में पांच विकेट लिए और जीत में अहम भूमिका निभाई। 

शुभमन गिल 

इंडिया
Aajtak

दूसरी इनिंग में 328 रनों का पीछा करते हुए शुभमन गिल ने शानदार 91 रन की पारी खेली ये पारी इसलिए भी खास थी क्योंकि ये बल्लेबाज opening करने आया था और टॉप ऑर्डर में बल्लेबाजी करना बहुत ही जिम्मेदारी से भरा हुआ काम है लेकिन गिल ने उसे बखूबी निभाया और बेहरीन बल्लेबाजी करते हुए टीम इंडिया को आखिरी जीत में अहम भूमिका निभाई। 

ऋषभ पंत 

इंडिया
Aajtak

इस बल्लेबाज ने टीम को तब संभाला जब मैच ऐसे मोड़ पर खड़ा था कि टीम इंडिया को आखिर एक सेट बल्लेबाज चाहिए था ऐसे समय में पंत ने बेहतरीन पारी खेलते हुए 89 रन की नाबाद पारी खेली इससे वो बहुत खुश होंगे क्योंकि कई बार उनपर उनके बल्लेबाजी को लेकर ये सवाल उठते रहते हैं कि आखिर जब कभी भी जिम्मेदारी भरी पारी खेलने की बात है तो वह गैरजिम्मेदाराना शॉट खेलकर आउट हो जाते हैं लेकिन आज उन्होने इसे भी सिरे से खारिज कर दिया, यही कारण है कि उन्हे प्लेयर ऑफ द मैच का भी अवार्ड मिला। 

वही शार्दुल ठाकुर और वाशिंगटन सुंदर का भी योगदान नहीं भूलना चाहिए जहां उन्होने पहली इनिंग में भारतीय टीम के बल्लेबाजी क्रम को संभाला और जीत दिला दी।