सुप्रीम कोर्ट ने नही दी मोहर्रम पर मातमी जुलूस निकालने की इजाजत, गिनाई यह बड़ी वजहें !

माननीय सुप्रीम कोर्ट ने मुहर्रम पर देश में मातमी जुलूस निकालने की इजाजत देने से मना कर दिया है. चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एसए बोबडे की बेंच ने कहा कि कोरोना वायरस इस समय खतरनाक स्थिति में है ऐसे में लोगों की सेहत को खतरे में नही डाल सकते. उत्तरप्रदेश के कल्बे सादिक ने कोर्ट में पीटिशन दायर कर मोहर्रम पर मातमी जुलूस निकालने की इजाजत मांगी थी जिस पर सुप्रीम कोर्ट का यह आदेश आया है.

Photo-bhaskarassets.com

 मोहर्रम पर जुलूस निकालने की नही होगी इजाजत

सुप्रीम कोर्ट ने मोहर्रम पर मातमी जुलूस निकालने के लिए इजाजत देने से मना कर दिया है. मोहर्रम पर मातमी जुलूस निकालने की इजाजत देने के लिए उत्तरप्रदेश के कल्बे सादिक ने सुप्रीम कोर्ट में पीटीशन लगाई थी. कल्बे सादिक ने पीटीशन में उड़ीसा के पुरी में रथयात्रा की इजाजत देने का हवाला दिया था.

Also Read-  Don Bradman: The true ‘DON’ of Cricket world

इस पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एसए बोबडे ने कहा कि जग्गनाथ पुरी का मामला अलग था, वहां रथ एक तय जगह से दूसरी जगह ले जाना था, ऐसे तय जगह वाले मामलों में हम खतरे का अनुमान लगा सकते हैं लेकिन यह आदेश हर मामले में लागू नही होता.

Photo-static.india.com

उन्होंने कहा कि मातमी जुलूस निकालने की इजाजत देने पर हंगामा होगा और एक खास समुदाय पर कोरोना फैलाने के आरोप लगेंगे. ऐसे में लोगों की सेहत को हम खतरे में नहीं डाल सकते. बता दें कि मोहर्रम इस्लाम का महीना है और इससे इस्लाम धर्म के ऩए साल की शुरुआत होती है. इस साल मोहर्रम 20 अगस्त से शुरु होगा और 18 सितंबर तक चलेगा.

Also, Read-   Where to Messi? Only a few clubs can meet his wage demands