पथराव, तोड़फोड़, कर्फ्यू: नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कई राज्यों में मुसलमानों का विरोध प्रदर्शन

नूपुर शर्मा के विवादित बयान पर शुक्रवार की नमाज के बाद देश भर के कई शहरों में मुसलमानों के विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं।

दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, झारखंड और कश्मीर सहित कई राज्यों में बड़ी संख्या में सड़कों पर उतारकर और हिंसक उपद्रव होने के बाद देश भर में कई उपद्रवियों पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है। कुछ शहरों में इंटरनेट भी बंद कर दिया गया है।

प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा, जबकि उन्होंने पथराव और नारेबाजी भी की।

उत्तरप्रदेश

प्रयागराज में स्थिति अवर्णनीय थी, सूत्रों के अनुसार यह एक पूर्व नियोजित साजिश थी। अटाला इलाके में जुमे की नमाज खत्म होने के बाद प्रदर्शनकारियों ने पुलिसकर्मियों पर पथराव शुरू कर दिया। कानून-व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए इलाके में पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया था, लेकिन प्रदर्शनकारी भारी संख्या में थे, उन्होंने प्रयागराज एडीजी के वाहन में भी तोड़फोड़ की।

उत्तर प्रदेश पुलिस मुख्यालय द्वारा सूचित “उत्तर प्रदेश के कई शहरों में हिंसा हुई जिसमें सहारनपुर, मुरादाबाद, रामपुर और लखनऊ शामिल हैं”।

प्रदर्शनकारियों की कार्रवाई के जवाब में, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शीर्ष पुलिस अधिकारियों को राज्य में पथराव की घटनाओं या कानून-व्यवस्था की स्थिति को बिगाड़ने वाले आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया। और एसीएस होम अवनीश अवस्थी, कार्यवाहक डीजीपी, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर को स्थिति की समझदारी से निगरानी करने का आदेश दिया।

दिल्ली

दिल्ली के विरोध की बात करते हैं, नूपुर शर्मा के खिलाफ तख्तियों के साथ और उनके खिलाफ नारे लगाने की मांग के साथ, जामा मस्जिद के बाहर सैंकड़ों लोग जमा हो गए।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया,“हम पहले से ही हिंसक स्थिति के लिए तैयार थे, मस्जिद के गेट नंबर एक के पास सीढ़ियों पर शांतिपूर्ण विरोध चल रहा था, और यह लगभग 15 से 20 मिनट तक चला। प्रदर्शनकारियों को बाद में इलाके से तितर-बितर कर दिया गया। ”

जम्मू और कश्मीर

जम्मू कश्मीर में शुरू से ही मुस्लिम समुदाय के लोग नूपुर शर्मा के खिलाफ थे और आपत्तिजनक बातें भी कर चुके हैं। हुर्रियत कांफ्रेंस के साथ श्रीनगर में कई स्थानों पर विरोध प्रदर्शन शुरू हुए, जिसमें आरोप लगाया गया कि मुस्लिम विरोधी काम सरकार की पहचान बन गए हैं और इसके कारण शहर के कुछ इलाकों में किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवा को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया गया था।

अधिकारियों ने कहा, प्रदर्शनकारियों ने शहर के लाल चौक, बटमालू, तेंगपोरा और अन्य स्थानों की सड़कों को अवरुद्ध कर दिया। शुक्रवार की सामूहिक नमाज के बाद पुरुषों के साथ-साथ महिलाओं ने भी हाथों में तख्तियां लेकर विरोध प्रदर्शन किया। इतना ही नहीं, जम्मू के भद्रवाह और किश्तवाड़ के कुछ इलाकों में अधिकारियों ने कर्फ्यू लगा दिया, जबकि कश्मीर के कुछ हिस्सों में बंद रहा। भद्रवाह कस्बे में पथराव की छिटपुट घटनाएं हुई हैं। जहां कुछ लोग पाबंदियों का उल्लंघन करने लगे, सड़कों पर उतर आए और नारेबाजी करते हुए सुरक्षा बलों पर पथराव कर दिया।

झारखंड

शांतिपूर्ण विरोध से शुरुआत होकर झारखंड के केंद्र शहर में उपद्रव और भयानक हिंसा हुई, जिसमें हनुमान मंदिर के पास उपद्रवी भीड़ को नियंत्रित करते हुए स्थानीय लोगों के साथ कई पुलिस अधिकारी गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। हालांकि रांची में कर्फ्यू लगा दिया गया था।

रांची में स्थिति को नियंत्रित करने के लिए भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। इस दौरान उपद्रवियों ने कुछ वाहनों को भी आग के हवाले कर दिया गया।

रांची के डीआईजी अनीश गुप्ता ने कहा, “हनुमान मंदिर के पास अचानक हिंसा शुरू होने पर स्थिति नियंत्रण से बाहर हो गयी है, हालांकि हम अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहे हैं। सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। मौके पर वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद हैं। हम यहां से भीड़ को तितर-बितर करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं।”

कर्नाटक

रिपोर्ट्स के मुताबिक, उपद्रवियों ने बेलगावी में फोर्ट रोड पर एक मस्जिद के पास एक सार्वजनिक फांसी देकर बिजली के तार से शर्मा का पुतला लटका दिया। चूंकि यह उपद्रवियों द्वारा किया गया एक शर्मनाक और डरावना कुकृत्य है। पुलिस ने नगर निगम के साथ मिलकर इसे जल्दी से हटा दिया।

पुलिस ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है, वे मामले की जांच कर रहे हैं और समाज में शांति भंग करने आरोपियों की तलाश कर रही है।

पश्चिम बंगाल

राज्यों में प्रदर्शनकारियों ने शांतिपूर्ण विरोध के सारे नियम तोड़ दिए और सड़क जाम हटाने की कोशिश करने वाले पुलिस कर्मियों से धक्का-मुक्की करने लगे। बाद में पुलिस ने कार्रवाई की और हावड़ा जिले के उलुबेरिया में उन पर लाठीचार्ज किया।

10 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और स्थिति को नियंत्रित करने के लिए आईजी दक्षिण बंगाल पुलिस बल की एक बड़ी टुकड़ी के साथ मौके पर पहुंचे।

महाराष्ट्र

पनवेल और वाशी के मुस्लिम समुदाय ने निलंबित भाजपा नेता नुपुर शर्मा और नवीन जिंदल द्वारा पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ भड़काऊ टिप्पणी पर जुमे की नमाज के बाद विरोध मार्च निकाला। उन्होंने स्थानीय थाने में अपनी मांग रखी।

सोलापुर में एआईएमआईएम पार्टी ने नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल की गिरफ्तारी की मांग को लेकर जिला कलेक्टर कार्यालय पर धरना दिया। औरंगाबाद में भी संभागायुक्त कार्यालय में सैकड़ों की संख्या में लोग उमड़ पड़े।