कहीं आप तो नहीं हैं उनके अगले शिकार? त्योहारों की खरीदारी में ऑनलाइन ठगी से बचने के लिए बरते ये सावधानी

आजकल के व्यस्त जीवन में और शहरों की जिंदगी में ज्यादातर लोग ऑनलाइन शॉपिंग करना पसंद करते हैं। लेकिन की बार लोग फेस्टीव ऑफर्स के चक्कर में फर्जी वेबसाइट की ऑनलाइन ठगी का शिकार हो जाते हैं। कई बार ऐसा भी होता है कि लोग पुरानी वेबसाइट छोड़कर सस्ते सामान के चक्कर में नई वेबसाइट से सामान खरीद लेते हैं। जहां इनको पेमेंट के बाद भी कोई डिलीवरी नहीं दी जाती है या गलत सामान पहुंचा दिया जाता है।

ऑनलाइन ठगी
Photo – Social Media

 

कैसे बचें ऑनलाइन ठगी से

अगर आपको किसी भी कंपनी की वेबसाइट के बारे में कहीं से पता लगा है तो पहले आप उस कंपनी की रजिस्ट्रेशन से लेकर वह कंपनी कितनी पुरानी है और कानूनी रूप से कितनी सशक्त है इसके बारे में जानकारी इकट्ठी करें। किसी भी सम्मान के लिए ऑनलाइन पेमेंट करने से पहले कंपनी के सारे टर्म्स और कंडीशन स्कोर ध्यान से पढ़ लें तथा उनकी ई-कॉमर्स कंपनी को व्यवस्थित रूप से जांच लें।किसी भी कंपनी के पेज पर नीचे जाकर आप कॉपीराइट वाला ऑप्शन जरूर देख ले अगर कंपनी सही होगी तो वेट आईडी भी दिखाई देगी।

Also Read – सबको दिखते हैं ये 5 सपने, पढ़िए इन सपनों के पीछे का रहस्य 

अगर किसी वेबसाइट के आगे https नहीं लगा है तो उस कंपनी से कुछ ना लें क्योंकि यह समझ लीजिए कि वह फर्जी साइट है। रजिस्टर्ड वेबसाइट की यू आर एल के सामने हमेशा एक लॉक का साइन लगा होता है उसे जरूर जांच लें। अगर किसी कंपनी की जानकारी ना मिले या उसका एड्रेस ना पता चले तो उस कंपनी से शॉपिंग करने से बच्चे अथवा शॉपिंग ना ही करें।

    ऑनलाइन ठगीPhoto – Social Media

कैसे ये वेबसाइटस बनाते हैं शिकार

अक्सर ऐसा होता है कि जैसे ही लोगों की ऑनलाइन शॉपिंग बढ़ जाती है साइबर अपराधी नामी-गिरामी इकॉमर्स कंपनी की लोन वेबसाइट बना लेते हैं। यह प्रोनवेबसाइट्स बिल्कुल ओरिजिनल वेबसाइट की तरह ही दिखती है लेकिन आपको इन वेबसाइट्स पर प्रोडक्ट पर भारी ऑफर और छूट मिलेगी। और लोगों को छूट और ऑफर के माध्यम से लोगों को फंसाया जाता है। दर्शन इन वेबसाइट्स पर जैसे ही आप किसी प्रोडक्ट को लेने के लिए पेमेंट कर देते हैं उसके कुछ देर बाद यह वेबसाइट दिखाई देना बंद हो जाती है और खरीददार के पैसे डूब जाते हैं।

हालांकि साइबर सेल ऐसी घटनाओं की जांच करता है मगर ऑनलाइन लिंक डिलीट हो जाने की वजह से इस तरह के क्राइम को पकड़ पाना और उस पर लगाम लगाना काफी कठिन हो जाता है। कई बार तो लोगों को सामान की डिलीवरी बहुत दिनों तक ना होने पर कस्टमर केयर को फोन करने के बाद पता चलता है कि ऐसी कोई कंपनी है ही नहीं।