Ram Mandir निर्माण शुरू होने के साथ ही देशभर में बढ़ी श्रीराम मूर्तियों की डिमांड

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अयोध्या में Ram Mandir निर्माण का भूमि पूजन किया है, राम मंदिर निर्माण का देशभार के रामभक्त दशकों से इन्तेज़ार कर रहे थे और राम मंदिर निर्माण कार्य शुरू होने के साथ ही देशभर में इसे लेकर उत्साह साफ दिख रहा है। राम मंदिर के सपने के साकार होने का सबसे बड़ा असर मुरादाबाद के पीतल बाजार में देखने को मिल रहा है।

बता दें Ram Mandir के शिलान्यास के बाद से पीतल कारोबारियों के पास सबसे ज्यादा रामदरबार और राम की मूर्तियों के आर्डर आ रहे हैंं। देश के महाराष्ट्र,गुजरात,तमिलनाडु,कर्नाटक के साथ ही दिल्ली और हरियाणा के व्यापारी पीतल की मूर्तियों को खरीदने के बड़े बड़े ऑर्डर मुरादाबाद के पीतल कारोबारियों को दे रहे हैं।

Photo – Denik Jagran

Also Read – विदेशी भूमि पर China के रक्षा मंत्री ने जताई भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की इच्छा

पीतल कारोबारियों का कहना है कि ऐसा नहीं है कि इससे पहले राम की मूर्तियों को बनाने के आर्डर नहीं मिलते थे, सालभर में गिने चुने आर्डर ही राम मूर्तियों के आते हैं, लेकिन Ram Mandir निर्माण कार्य शुरू होने के बाद एक दिन में सौ से ज्यादा लोग मूर्तियों के बारे में जानकारी मांगते हैं, वहीं 20 से 25 लोग आर्डर भी दे रहे हैं। बता दें पीतल बाजार में यह पहली बार देखने को मिल रहा है,जब राम और रामदरबार की मूर्तियों की मांग बढ़ी है।

मुरादाबाद में नहीं इस शहर में बनाई जाती है मूर्तियां

पीतल नगरी के नाम से भले ही मुरादाबाद का नाम दुनिया में मशहूर हो लेकिन पीतल की मूर्तियों का निर्माण मुरादाबाद में नहीं होता है। बता दें पीतल मूर्तियों के सबसे ज्यादा कारखाने अलीगढ़ में हैं,लेकिन उनकी बिक्री मुरादाबाद से होती है। मूर्तियों के ढलने के बाद मुरादाबाद के कारीगर ही मूर्तियों को आखिरी फिनिशिंग का काम करते हैं, इसके बाद ही उनकी सुंदरता उभर के आती है। यही कारण है अलीगढ़ में मूर्ति बनने के बाद भी मुरादाबाद में इनका बड़ा बाजर है, यहीं से ये देश विदेश में निर्यात की जाती है।