राजस्थान में सत्ता संघर्ष के बीच कांग्रेस के चार ‘दिग्गज नेता’ मैदान में कूदे, जानिए क्या है पूरा प्लान !

राजस्थान में चल रहे सियासी जंग के बीच कांग्रेस ने बीजेपी के खिलाफ बड़ी मुहिम छेड़ने की योजना बनाई है. कांग्रेस ने अपने चार दिग्गज नेताओं को मैदान पर उतार कर बड़ी जिम्मेदारी दी है. दरअसल मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पिछले कुछ दिनों में काफी फजीहत झेलनी पड़ी है. वह लगातार राज्यपाल  और प्रधानमंत्री से विधानसभा सत्र बुलाने की मांग कर रहे थे लेकिन उनकी बात को किसी ने गंभीरता से नही लिया. इसी को देखते हुए कांग्रेस ने 4 बड़े नेताओं को मैदान में उतारा है. इन नेताओं पर जिम्मेदारी होगी कि राज्यपाल के निर्णय के खिलाफ पार्टी का अगला कदम क्या होगा.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

कांग्रेस के 4 बड़े नेता राजस्थान के सियासी जंग में कूदे

राजस्थान की स्थिति को संभालने के लिए कांग्रेस ने पार्टी के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम के साथ पूर्व कानून मंत्री सलमान खुर्शीद, कपिल सिब्बल और अश्विनी कुमार को मैदान में उतारा है. कांग्रेस इस समय बीजेपी के खिलाफ स्पीक अप फॉर डेमोक्रेसी के जरिए लोकतंत्र बचाओ अभियान चला रही है. इस अभियान के द्वारा कांग्रेस पार्टी देश की जनता को यह बताने का प्रयास कर रही है कि कैसे भाजपा संवैधानिक निकाय़ों का दुरुपयोग पार्टी के खिलाफ कर रही है.

पी चिदंबरम, कपिल सिब्बल, अश्विनी कुमार और सलमान खुर्शीद

सचिन पायलट को विधानसभा सत्र बुलाने की मांग करनी चाहिए

पी चिदंबरम ने कहा कि कांग्रेस सभी राज्यो में राजभवन के बाहर प्रदर्शन कर रही है. कांग्रेस का मानना है कि सचिन पायलट और उनके गुट के सभी विधायक इस समय भाजपा से प्रभावित हैं और वह उनके अनुसार ही काम कर रहे हैं.

चिदंबरम ने विधानसभा सत्र बुलाये जाने को लेकर सचिन पायलट द्वारा चुप्पी साधने पर चिंता जाहिर की. उन्होंने कहा कि वास्तव में सबसे पहले तो सचिन को खड़े होकर विधानसभा सत्र बुलाए जाने की मांग करनी चाहिए. तभी तो पता चलेगा कि वह किस पार्टी की तरफ हैं और वह क्या करेंगे.

चिदंबरम ने कहा कि वह अपने आप को कांग्रेस की तरफ दिखा रहे हैं. वह कह रहे हैं कि गहलोत सरकार ने बहुमत खो दिया है तो उनको राज्यपाल से मिल कर विधानसभा सत्र बुलाए जाने की मांग सबसे पहले करते हुए कांग्रेस के साथ होना चाहिए. पायलट सत्र के दौरान क्या करेंगे वह उनका निर्णय है लेकिन सत्र बुलाने के बारे में वह चुप क्यों है.

देशभर के पार्टी नेताओं ने राज्यपाल से विधानसभा सत्र बुलाए जाने की मांग की है

‘स्पीक अप फॉर डेमोक्रेसी’ के तहत कांग्रेस के ट्वीटर हैंडल से पार्टी के करीब 60 वीडियो ट्वीट किए गए हैं. वीडियो में नेता देश के नागरिकों से अपील कर रहे हैं कि लोकतंत्र को बचाने के लिए अपनी आवाज बुलंद करे. कांग्रेस का कहना है कि देश एक साथ कोरोना महामारी और सीमा विवाद जैसे संकटों से घिरा हुआ है. इससे निपटने के बजाय बीजेपी सत्ता हथियाने का प्रयास कर रही है.

कांग्रेस नेता प्रियंका गाँधी वाड्रा, ओमन चांडी, शशि थरुर, हरीश रावत, बालासाहेब थोराट, राजीव शुक्ला और सुप्रिया श्रीनेत  सहित कई नेताओं के वीडियो संदेश सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए हैं.