Home विचार/मत भारतीय रेलवे ने वो कर दिखाया है जो पहले कभी नही हुआ,...

भारतीय रेलवे ने वो कर दिखाया है जो पहले कभी नही हुआ, सभी ट्रेनें सही टाइम पर !

अगर हम बात करते हैं भारतीय रेलवे की तो कोई भी नही सोच सकता की ट्रेन से सफर कर हम सही समय पर अपने गंतव्य पर पहुंच जायेंगे. अक्सर ट्रेन लेट की शिकायत लोग करते रहते हैं. भारतीय रेलवे ने कुछ ट्रेनों पर लेट होने पर  टिकट के पैसे वापस करने की योजना भी बनाई थी. हालांकि, इसका कोई फायदा नही हुआ. अब लॉकडाउन के बाद ट्रेनों के शुरु होते ही भारतीय रेलवे ने अपनी गजब की छवि पेश करते हुए इतिहास रच दिया है. 1 जुलाई 2020 को चलने वाली 201 ट्रेनें बिना देरी के अपने समयानुसार निर्धारित स्टेशन पर पहुंचीं. रेलवे की ओर से कहा गया है कि भारतीय रेल के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है.

भारतीय रेलवे की नई उपलब्धि

भारतीय रेल ने नया मुकाम हासिल किया है

भारतीय रेलवे का सुनहरा अध्याय शुरु होने वाला है. अब विदेशों की तर्ज पर भारतीय रेलवे भी ट्रेनों के अपने गंतव्य तक समय से पहुंचने को लेकर गंभीर हो गई है.

भारतीय रेल द्वारा 1 जुलाई को चलाई गई सभी ट्रेनें राइट टाइम पर अपने गंतव्य तक पहुंची हैं. खबर के अनुसार भारतीय रेल ने एक जुलाई यानि कल 201 ट्रेनों को ऑपरेट किया. इस दौरान ट्रेन एकदम सही समय से छूटी और निर्धारित समय पर डेस्टिनेशन तक पहुंची. इस तरह टाइमिंग के मामले में रेलवे विभाग ने 100% सफलता हासिल की है. भारतीय रेलवे के लिए यह गौरव का क्षण है.

हालांकि इससे पहले भी 23 जून को भी रेलवे ने अपनी लगभग सभी ट्रेनों को समय पर ही संचालित किया था. लेकिन उस दौरान 99.54% गाड़ियां ही समय पर अपने गंतव्य तक पहुंच पाई थी.

बताते चलें कि भारतीय रेलवे का समय को लेकर हमेशा ही नाम खराब रहा है. ज्यादातर ट्रेनों का लेट होना कोई आम बात नही है. लेकिन पिछले कुछ सालों से रेलवे विभाग ने अपने इस लेट-लतीफी को कम करने के लिए खूब मेहनत की है. यही कारण है कि ट्रेनों के लेट होने में लगातार गिरावट देखी गई है.

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस पर खुशी जाहिर करते हुए एक ट्वीट किया है. उन्होंने कहा, “ट्रेनें फास्ट लेन में चल रही हैं। सेवाओं में सुधार हो रहा है। कोरोना संकट के बीच लगे लॉकडाउन में रेलवे लोगों को घरों तक पंहुचाने में मददगार साबित हुई है.”

पुराना इतिहास है भारतीय रेलवे का

भारतीय रेलवे अपने आप में लंबा इंतिहास समेटे हुए हैं. इसका इतिहास 167 साल पुराना है. भारत मेें अंग्रेजी शासन काल में 1853 में रेलवे की शुरुआत हुई थी. तब से लेकर अब तक भारतीय रेलवे में ट्रेनों के संचालन में 100  फीसदी सही टाइमिंग कभी नहीं रही. पहली बार रेलवे ने वो कर दिखाया है जो इसके पहले कभी नही हुआ था.

कुछ दिनों पहले ही इंडियन रेलवे ने पटरियों पर दो किलोमीटर लंबी ट्रेन चलाकर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया था. ट्रेन की लंबाई के अनुसार इसे सुपर एनाकोंडा नाम दिया गया था. यह पहला मौका रहा जब देश में दो किलोमीटर लंबी ट्रेन दौड़ाई गई. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्रेन का वीडियो शेयर करते हुए इसे सुपर एनाकोंडा बताया.

12 अगस्त तक रेगुलर ट्रेनें नहीं चलेंगी

कोरोनावायरस और फिर के उसके बाद हुए लॉकडाउन के कारण अभी रेलवे की रेगुलर ट्रेन सर्विस शुरु नहीं है. इस पर 12 अगस्त तक रोक लगाई गई है. हालांकि, 230 मेल और स्पेशल एक्सप्रेस ट्रेनें चल रही हैं और यह अगले आदेश तक चलती रहेगी. 12 अगस्त तक रद्द रहने वाली गाड़ियों में टिकट बुकिंग कराने वाले यात्रियों को 100% रिफंड दिया जा रहा है.