सशस्त्र बलों की नई भर्ती योजना ‘अग्निपथ’ के खिलाफ विरोध प्रदर्शन

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा ‘अग्निपथ’ योजना की घोषणा के बाद सेना, नौसेना और वायु सेना में सैनिकों की भर्ती के लिए सरकार के खिलाफ सेना में भर्ती होने वाले उम्मीदवारों ने देश के कई हिस्सों में रेल और सड़क यातायात को बाधित कर दिया।

बिहार में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन देखा गया है जहां हजारों युवा सरकार के विरोध में इकट्ठा हुए और कैमूर में एक यात्री ट्रेन में आग लगा दी। छपरा जंक्शन पर करीब 12 ट्रेनों में तोड़फोड़ की गई। छपरा में ही 3 ट्रेनों में आग लगा दी गई, इतना ही नहीं नवादा में बीजेपी के एक ऑफिस पर भी हमला किया गया है। बिहार इस विरोध का केंद्र बना हुआ है।

बिहार के जहानाबाद रेलवे स्टेशन पर भी प्रदर्शनकारी गुरुवार को पटना-गया पैसेंजर ट्रेन का मार्ग अवरुद्ध करने के मकसद से एकत्र हुए।

प्रदर्शनकारी सशस्त्र बलों में भर्ती की वर्तमान प्रणाली से खुश नहीं हैं और कहा, हम सशस्त्र बलों में शामिल होने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। महीनों के प्रशिक्षण और छुट्टी के साथ 4 साल की सेवा कैसी होगी? सिर्फ 3 साल के प्रशिक्षण के बाद हम देश की रक्षा कैसे करेंगे? सरकार को इस योजना को वापस लेना होगा।”

केंद्र सरकार ने अग्निपथ योजना तैयार की है जिसके द्वारा युवाओं को चार साल की अवधि के लिए सशस्त्र बलों में सेवा करने का अवसर मिलेगा।

ऐसा ही एक विरोध राजस्थान के नागौर जिले के डिडवाना में अग्निपथ योजना के खिलाफ हुआ। सेना भर्ती की तैयारी में लगे युवाओं ने सरकार के इस फैसले का कड़ा विरोध किया है।

प्रदर्शनकारियों ने अपनी भावनाओं को व्यक्त करते हुए कहा, “सरकार के इस फैसले से उनकी उम्मीदें धराशायी हो गई हैं, क्योंकि युवा उत्साह के साथ सेना भर्ती की तैयारी में लगे हुए थे, ताकि वे सेना में शामिल होकर देश की सेवा कर सकें। वे सेना में स्थायी नौकरी की उम्मीद कर रहे थे।

गौरतलब है कि ‘अग्निपथ योजना’ के तहत युवाओं को चार साल की अवधि के लिए सेना में शामिल होने का अवसर मिलेगा। इसके लिए साढ़े 17 साल से 21 साल की उम्र के लड़के-लड़कियां पात्र होंगे। इसके लिए कक्षा 10वीं से 12वीं तक के छात्र आवेदन कर सकते हैं। यह 90 दिनों के भीतर शुरू हो जाएगा। इस साल 46 हजार अग्निशामकों की भर्ती की जाएगी। पहली भर्ती प्रक्रिया में युवाओं को छह माह का प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण का समय भी चार साल में पूरा किया जाएगा।