प्रकाश झा ने ‘आश्रम 3’ से जुड़े आरोपों पर तोड़ी चुप्पी कहा ‘आदमी धर्म को नहीं बचा सकता’

फिल्म निर्देशक, प्रकाश झा ने हाल ही में अपनी लोकप्रिय सीरीज ‘आश्रम’ के तीसरे सीज़न के बारे में अपनी चुप्पी तोड़ी है। जिसका प्रीमियर एमएक्स प्लेयर पर हुआ था। इस बीच स्टार अभिनेता बॉबी देओल और सीरीज विवादों में है।

अक्टूबर 2021 में, बजरंग दल भोपाल के नेता द्वारा झा पर ‘हिंदुओं को बदनाम करने का आरोप लगाने के बाद बजरंग दल के सदस्यों द्वारा शो के सेट में तोड़फोड़ की गई थी। अब प्रकाश झा ने आखिरकार इस मामले पर चुप्पी तोड़ दी है और उन आरोपों का जवाब दिया और कहा कि इस तरह के आरोपों से वह पूरी तरह से अनजान थे।

झा ने कहा, “हर नकारात्मक दृष्टिकोण के लिए, हमेशा सकारात्मक सोचने वाले लोगों का एक समूह होता है। तो यह आप पर निर्भर करता है कि आप इसे कैसे लेना चाहते हैं, मैं आलोचकों को अपने विचार और दृष्टिकोण रखने की स्वतंत्रता देने में विश्वास करता हूं, हम किसी का विरोध नहीं कर सकते।”

झा ने कहा “हालांकि बॉबी देओल-स्टारर शो को धार्मिक कार्यकर्ता समूहों द्वारा लगाए गए सभी आरोपों के बाद अच्छा रिस्पांस प्राप्त हुआ है। यह पहली बार है जब मैंने ऐसा सुना है। कोई बात नहीं, मैं तुम्हें यह कहने की आज़ादी देता हूँ। यह आपका दृष्टिकोण है। ”

झा ने अपने बयान में इस पर प्रकाश डालते हुए कहा, “मैं सिर्फ भारत में धर्म को इंगित करना चाहता था। यह एक बहुत ही सुंदर कहावत है ‘धर्म की रक्षा करने वाले लोग नहीं हैं, यह धर्म है जो लोगों की रक्षा करता है। आदमी धर्म को नहीं बचा सकता, धर्म आदमी को बचाता है। तो जो लोग धर्म को बचाने निकलते हैं, वो गलतफहमी में हैं। यही हमारी शाश्वत प्रकृति कहती है।”

झा ने आगे कहा।“यह केवल कल्पना का काम है, क्या कोई मुझे बता सकता है कि धर्म क्या है? जो सच है वो धर्म है, और कोई चीज अगर सच नहीं है, तो वो धर्म हो ही नहीं सकता। तो हम झूठ बताते हैं तो धर्म हो ही नहीं सकता, धर्म से कोई लेना देना ही नहीं है उसका। वो जो झूठ के रास्ते पर निकल गए हैं, उनकी सोच वैसी होगी, पर सच के रास्ते पर लोग चलते हैं, पूरा समाज चलता है। ”