सर्वे में बड़ा खुलासा: कोरोना के बाद चीन से नफरत करने लगे हैं दुनिया के कई देश !

कोरोना महामारी और लद्दाख पर भारत के साथ बेवजह सीमा विवाद को बढ़ावा देने वाले चीन के खिलाफ पूरे दुनिया में गुस्सा बढ़ रहा है. एक सर्वे में यह बात सामने आई है कि दुनिया के तमाम देश खासकर ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया में बीजिंग को लेकर नकारात्मक धारणा बन रही है. दरअसल यह बात प्यू रिसर्च सेंटर के एक सर्वेक्षण में सामने आई है. चीन अपने कई पड़ोसी देशों के साथ ही अन्य देशों के साथ कारोबारी और राजनयिक विवादों में उलझा हुआ है जिसके कारण उसकी  गलत छवि पेश हुई है.

चीन के खिलाफ गुस्सा
Photo-jansatta.com

प्यू रिसर्च ने जून और अगस्त के बीच 14 देशों में किए गए सर्वेक्षण में बताया है कि अधिकांश लोगों ने किसी ने किसी कारण से चीन के खिलाफ गुस्सा प्रकट किया है. उन लोगों ने यह भी कहा कि कोरोना वायरस की तबाही के लिए चीन जिम्मेदार है. यह सर्वेक्षण 14276 लोगों पर किया गया. कुछ देशों को छोड़ कर लगभग हर देश में चीन को लेकर गुस्सा देखने को मिला. ऑस्ट्रेलिया में 81 प्रतिशत लोगों की धारणा चीन के प्रति नकारात्मक रही. इसकी मुख्य वजह दोनों देशों के बीच लगातार बढ़ता तनाव है. बता दें कि ऑस्ट्रेलिया ने कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर जांच की मांग की थी.

किन देशों में किया गया सर्वे

यह सर्वे अमेरिका, कनाडा, बेल्जियम, डेनमार्क, फ्रांस, नीदरलैंड, जर्मनी, इटली, स्पेन, स्वीडन, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, जापान और दक्षिण कोरिया में किया गया है. ज्यादातर लोग चीन के वायरस से निपटने के तरीके से सहमत नही है. इसके अलावा इस सर्वेक्षण में यह भी सामने आया है कि ट्रंप की छवि भी बेहद खराब है और 83 प्रतिशत लोगों का कहना है कि वह उन पर विश्वास नही करते हैं.

Also read-  IAF ‘well-positioned’ to handle any issues from China: Air Chief Bhadauria

शी जिनपिंग ने विश्वास तोड़ा

सर्वे में पता चला है कि राष्ट्रपति शी जिनपिंग को लेकर भी सवाल पूछे गए और परिणाम जिनपिं के खिलाफ रहा. जिनपिंग लोगों का विश्वास खो रहे हैं. कोरोना महामारी को लेकर चीन की काफी आलोचना हुई है जिसके चलते जिनपिंग पर भी लोगों का गुस्सा बढ़ा है. लोगों का कहना है कि वैश्विक मामलों में शी जिनपिंग पर भरोसा नही किया जा सकता कि वह सही कदम उठाएंगे.