देश में प्याज की बढ़ती किल्लत को देखते हुए सरकार ने उठाया बड़ा कदम !

देश में एक बार फिर प्याज की बढ़ती किल्लत को देखते हुए सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. इस समस्या से निपटने के लिए सरकार ने प्याज के निर्यात पर रोक लगाने का फैसला लिया है. सोमवार को सरकार ने प्याज के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दिया है. यह फैसला घरेलू बाजारों में कीमतों को नियंत्रित करने के लिए लिया गया है. खबर में बताया गया है कि प्याज से बने पाउडर के निर्यात पर रोक नही लगाई गई है.

प्याज की किल्लत
Photo-ichowk.in

देश मे प्याज की किल्लत

देश के कई हिस्सों में हो रही भारी बारिश और बाढ़ के चलते प्याज की मांग बढ़ गई है जिसके चलते सरकार को प्याज के निर्यात को तुरंत बंद करना पड़ा है. बताया जा रहा है कि राज्य सरकारों की लापरवाही से हजारों टन प्याज पानी मे सड़ गया. मध्यप्रदेश और राजस्थान समेत कई ऐसे राज्य हैं जहां प्याज की जमकर बरबादी हुई है. इससे पहले मार्च में ही सरकार ने प्याज के निर्यात पर लगे 5 महीने के प्रतिबंध को वापस लिया था. कीमतों में नियंत्रण होने और सप्लाई चेन ठीक होने के बाद यह फैसला लिया गया था.

यह भी पढ़ें-  अब नए नाम से जाना जाएगा Vodafone – Idea ब्रांड, पढ़िए पूरी खबर

डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ फॉरेन ट्रेड की ओर से जारी नोटिफिकेशन में कहा गया है कि सभी तरह की प्याज के निर्यात पर तुरंत प्रभाव से रोक  लगाई जाती है. इस प्रतिबंध मे कृष्णापुरम् की प्याज भी शामिल है. अभी तक प्याज की इस वैराइटी पर रोक नही लगाई जाती थी. बता दें कि इस समय राजधानी दिल्ली में एक किलो प्याज की कीमत 40 रुपये के करीब है.

पिछले वित्त वर्ष में भारत ने 440 मिलियन डॉलर के प्याज का निर्यात किया था. इसके अलावा इस साल की पहली तिमाही मे अब तक 198 मिलियन डॉलर के प्याज का एक्सपोर्ट किया जा चुका है.

Also read-  Central Government’s Decision To Ban Onion Exports With Immediate Effect Due To Spike In External Demand Angers Farmers

इन देशों पर होगा असर

भारत से कई देशों को प्याज का निर्यात किया जाता है. नेपाल, पाकिस्तान, श्रीलंका, मलेशिया औऱ बांग्लादेश भारत से प्याज मंगाते हैं. प्याज निर्यात से इन देशों पर तो असर होगा ही इसका असर भारत के सरकारी रेवन्यू पर भी होगा. दुनिया में भारत दूसरा सबसे बड़ा प्याज उत्पादक देश है. पहले नंबर पर चीन जबकि तीसरे नंबर पर अमेरिका का नंबर आता है.