भारत की एकमात्र नदी जो उल्टी दिशा में बहती है, पढ़िए पूरी दिलचस्प कहानी

भारत देश में अधिकांश नदियांँ एक ही दिशा में पश्चिम से पूर्व की ओर बहती है। और यह सभी नदियांँ पूर्व में बंगाल की खाड़ी पर जाकर गिरती हैं। लेकिन हिंदुस्तान में एक नदी ऐसी भी है जो इनके विपरीत बहती है और अरब सागर में जाकर गिरती है। विपरीत दिशा में बहने वाली है नदी पूरे हिंदुस्तान की एकमात्र एसी नदी है। देश की एकमात्र ऐसी नदी है जो खंभात की खाड़ी में गिरती है।

एकमात्र नदी
Photo – Social Media

Also Read – बराक ओबामा की किताब में हुआ राहुल बाबा का जिक्र, बताया नर्वस नेता तो देखिए लोगों ने क्या-क्या..

कौन सी है वह एकमात्र नदी

हिंदुस्तान की एकमात्र नदी जो विपरीत दिशा में बहती है या कोई और नहीं बल्कि नर्मदा नदी है। किस नदी की विपरीत दिशा को हम यह भी कह सकते हैं कि यह बाकी नदियों की दिशा के परे पीछे की ओर बहती है। नर्मदा का प्रवाह पूर्व से पश्चिम की ओर विपरीत है। नर्मदा नदी मध्य प्रदेश और गुजरात राज्यों की जीवन रेखा है। नर्मदा नदी मध्य प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र से 95,726 वर्ग किमी बहती है, जो अरब सागर में जाने से पहले 1312 किमी की लंबाई में है।

एकमात्र नदी
Photo – Hinduism Today

नर्मदा नदी का परिचय

नर्मदा नदी को रीवा नदी के नाम से भी जाना जाता है। नर्मदा नर्मदा का उद्गम अमरकंटक चोटी पर है। भौगोलिक दृष्टिकोण से रिफ्ट घाटी नर्मदा नदी के बहने का कारण है। क्योंकि रिफ्ट घाटी की ढलान विपरीत दिशा में यानी कि पूर्व से पश्चिम की ओर है इसी कारण नर्मदा नदी पूर्व से पश्चिम की ओर बहती है। नर्मदा नदी अमरकंटक से बहती हुई अरब सागर से मिल जाती है। अपने स्रोत से 1,312 किमी पश्चिम में अरब सागर खंभात की खाड़ी में गिरती है। इसमें 41 सहायक नदियाँ मिलती हैं। जिनमें से बाँयी तट पर 22 नदियाँ और दायीं तट पर 19 नदियाँ हैं।