मुंबई के सपने: 3 बच्चे गायक बनने के लिए घर से भागे, पठानकोट में पकड़े गए, परिवार से मिले

रेलवे पुलिस (जीआरपी) ने मंगलवार को पठानकोट रेलवे स्टेशन पर तीन बच्चों को बिना टिकट के देखा। वे मुंबई जा रहे थे और गलत ट्रेन में चढ़ गए थे।

दो बच्चे नौ साल के थे, और तीसरा सोलह साल का। बच्चों को उनके माता-पिता और भाई-बहनों से मिलवाया गया।

पुलिस के पठानकोट सब डिवीजन के डीएसपी रणबीर ने कहा,“वे टीवी पर आने वाले गायन प्रतियोगिता में बहुत रुचि रखते थे। वे यह सोचकर ट्रेन में चढ़ गए कि यह उन्हें मुंबई ले जाएगी, लेकिन यह पठानकोट रेलवे स्टेशन पर रुक गई।”

डीएसपी ने बताया,“तीन लोग डरे हुए और रो रहे थे, और ट्रेनों में तथा उनके आसपास घूमते पाए गए। तीनों को आराम और भोजन दिया गया क्योंकि वे भूखे थे। वे सभी अलग अलग परिवारों से आते हैं। उन्होंने मुंबई जाने का फैसला किया था। जब वे पठानकोट रेलवे स्टेशन पहुंचे तो वे डर गए। उनमे से एक ने एक अजनबी से उसका फोन मांगा और अपने चाचा से कहा कि वे मुंबई जा रहे हैं। चाचा ने उस नंबर पर फिर से कॉल किया और उत्तर देने वाले को बताया कि वे लापता हैं और पुलिस को कॉल करने की जरूरत है। फिर, हमने बच्चों को अपनी देखभाल में लिया और उनके माता-पिता को पठानकोट आने के लिए कहा। ”