मुख्तार अंसारी के शूटर हनुमान पांडेय एनकाउंटर पर उसके पिता ने उत्तरप्रदेश पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए हैं, कहा घर से उठा ले गए और मार दिया..!

अय़ोध्या में राममंदिर निर्माण के लिए हुए भूमिपूजन के बाद एक बार फिर उत्तरप्रदेश सरकार गैंगस्टरों के पीछे पड़ गई है. इस कड़ी में आज सुबह मुख्तार अंसारी गैंग के एक शूटर राकेश पांडेय उर्फ हनुमान का उत्तरप्रदेश पुलिस ने लखनऊ के सरोजनी नगर इलाके में एनकाउंटर कर दिया. कहा जा रहा है हनुमान भाजपा विधायक कृष्णानंद राय हत्याकांड में आरोपी था औऱ उस पर 1 लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया था. राकेश पांडेय के एनकाउंटर पर आर्मी से सेवानिवृत्त उसके पिता बालदत्त पांडेय ने उत्तरप्रदेश पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने कहा कि उसे उत्तरप्रदेश पुलिस घर से उठा ले गई और एनकाउंटर कर दिया. बता दें कि योगी सरकार द्वारा अपनाए जा रहे एनकाउंटर के तरीके पर सुप्रीम कोर्ट पहले भी सवालिया निशान लगा चुकी है औऱ अब राकेश पांडेय उर्फ हनुमान के एनकाउंटर मामले में भी उत्तरप्रदेश पुलिस पर उसके पिता ने गंभीर आरोप लगाए हैं.

हनुमान के पिता ने उत्तरप्रदेश पुलिस के एनकाउटंर पर सवाल ख़ड़े किए हैं

मुख्तार अंसारी गैंग के शूटर राकेश पांडेय उर्फ हनुमान के एनकाउंटर मामले में उत्तरप्रदेश पुलिस पर सवाल खड़े हो गए हैं. हनुमान के पिता सेना से रिटायर्ट बालदत्त पांडेय ने उत्तरप्रदेश पुलिस पर आरोप लगाया है कि उनके बेटे को रात के 3 बजे घर से उठाने के बाद एनकाउंटर कर दिया गया. उनका बेटा अपनी मां का लखनऊ मे इलाज करा रहा था औऱ इसी सिलसिले में वह वहां पर था. उन्होंने कहा 1 लाख का इनाम उस पर कब घोषित हुआ कभी मामला सामने नही आया. वह ज्यादातर केस से बरी कर दिया गया था इसीलिए बाहर था.

बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय और ठेकेदार मुन्ना सिंह हत्याकांड से सुर्खियों में आया

गैंगस्टर राकेश पांडेय उर्फ हनुमान गाजीपुर में भाजपा विधायक कृष्णानंद राय और मऊ में ठेकेदार मुन्ना सिंह हत्याकांड के बाद सुर्खियों में आया था. माना जा रहा है कि उसके ऊपर दर्जन भर आपराधिक मुकदमें दर्ज थे. हालांकि कृष्णानंद राय औऱ मुन्ना ठेकेदार हत्याकांड से मुख्तार औऱ हनुमान दोनों ही बरी हो गए थे लेकिन ठेकेदार के मुनीम राम सिंह मौर्य व सिपाही सतीश हत्याकांड मामले में मुख्तार अंसारी औऱ उस पर अभी भी कोर्ट में केस चल रहा है.

राकेश पांडेय उर्फ हनुमान

हनुमान की तलाश मऊ पुलिस भी कर रही थी

गैंगस्टर राकेश पांडेय उर्फ हनुमान की तलाश में मऊ पुलिस लगातार सर्च ऑपरेशन चला रही थी. इस सिलसिले में उसने कई बार कोपागंज थाने में दबिश दी थी लेकिन उसका कोई पता नही चल सका था. पुलिस ने राकेश पांडेय की पत्नी सरोजलता पांडेय को वर्ष 2005 बंदूक का अवैध लाइसेंस बनवाने के मामले में दोषी पाते हुए बंदूक का लाइसेंस निरस्त करने के साथ ही केस भी दर्ज किया था. खबर के अनुसार हनुमान पांडेय की पत्नी सरोजलता आंगनबाड़ी कार्यकर्ता है. वह अपने घर कोपागंज थाना के लिलारी भरौली में रहती है. एनकाउंटर मे राकेश पांडेय उर्फ हनुमान के मारे जाने के बाद गांव और परिवार में सन्नाटा छा गया.