संसद का मानसून सत्र 14 सितंबर से शुरु होने जा रहा है, जानिए क्या होगें मुख्य मुद्दे

संसद का मानसून सत्र कोरोना महामारी के बीच 14 सितंबर से शुरु होने जा रहा है. इस संबंध में सोमवार को अधिसूचना जारी कर दी गई है. विपक्ष ने संकेत दिए हैं कि वह कोरोना महामारी, चीन सीमा विवाद, और आर्थिक हालात जैसे मुद्दों पर वह सरकार को घेरने का प्रयास करेगी. वहीं सरकार की माने तों उनकी प्राथमिकता करीब दर्जन भर विधेयक और इतनी ही संख्या में लंबित पड़े अध्यादेंशों के स्थान पर आने वाले कानूनों को मंजूरी दिलाने की होगी.

संसद का मानसून सत्र
Photo-patrika.com

कोरोना वायरस के संकट को देखते हुए इस बार लोकसभा राज्यसभा की कार्रवाही में कुछ बदलाव किए गए हैं. इस बार मानसून सत्र में प्रश्न काल नही होगा हालांकि शुन्य काल रहेगा. खबर के अनुसार सत्र के दौरान शनिवार और रविवार को छुट्टी नही होगी. 14 सितंबर से एक अक्टूबर तक कुल 18 बैठकें होगी.

Also Read- Congress Demands Discussion in Parliament Over China’s Recent Activities Along India’s Borders

संसद सत्र से 72 घंटे पहले होगी सांसदो की कोरोना जांच

संसद के मानसूत्र के शुरु होने से पहले सांसदों के स्वास्थ्य को लेकर महत्वपूर्ण कदम उठाये गए हैं. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कुछ दिनों पहले ही कहा था कि सभी सांसदो की बैठक शुरु होने से 72 घंटे पहले कोरोना वायरस जांच करवाई जायेगी. इसके अलावा सामाजिक दूरी के नियमों के अनुपालन में लोकसभा और राज्यसभा की सभी बैठकें अलग-अलग होगीं. जिससे सभी चैंबरों और गैलरी का इस्तेमाल सदस्यों के बैठने  के लिए किया जा सके.

Also Read-  Opposition Calls The Suspension Of Question Hour An Attempt To ‘Murder Democracy’

संसद में महत्वपूर्ण मामले लंबित है

संसद में डेढ़ दर्जन के करीब महत्वपूर्ण विधेयक लंबित  हैं जिनमें सामाजिक सुरक्षा संहिता 2019, बुजुर्गों के भरण-पोषण एवं कल्याण संशोधन विधेयक, व्यक्तिगत डाटा संरक्षण विधेयक 2019, पेशेवर सुरक्षा, औद्योगिक संबंध संहिता 2019, स्वास्थ्य एवं कामकाजी स्थिति संहिता 2019 और कंपनी संशोधन विधेयक 2020 आदि शामिल हैं.