फिसल गई सिंधिया की जुबान, बीजेपी की जगह कांग्रेस के लिए मांगा वोट…देखिए वायरल वीडियो

मध्यप्रदेश में उपचुनाव के लिए होने जा रहे वोटिंग से पहले नेता जोरदार प्रचार करने में जुटे हुए हैं. बीजेपी और कांग्रेस सहित कई अन्य दलों के नेता ताबड़तोड़ प्रचार कर रहे हैं. इस दौरान बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया एक रैली में बोलते हुए भाजपा की जगह कांग्रेस का प्रचार कर बैठे. दरअसल बीजेपी प्रत्याशी के लिए प्रचार करने गए सिंधिया की जुबान फिसल गई और उन्होंने हाथ के निशान वाले बटन को दबाकर कांग्रेस को विजयी बनाने की बात कह दी. बाद में उन्होंने अपने को बदलते हुए बीजेपी को जिताने की अपील की. उनके इस भाषण का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है.

ज्योतिरादित्य सिंधिया
Photo-freepressjournal.in

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बीजेपी की जगह कांग्रेस का प्रचार कर दिया

ज्योतिरादित्य सिधिंया के भाषण का एक वीडियो इस समय जमकर वायरल हो रहा है. इस वीडियो में ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी की एक रैली के दौरान वोटरों से कमल की जगह हाथ के पंजे का निशान दबाने की अपील कर रहे हैं. दरअसल ग्वालियर जिले के डबरा में होने जा रहे उपचुनाव में बीजेपी प्रत्याशी इमरती देवी के पक्ष में वोट देने के लिए एक सभा को संबोधित कर रहे राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की जुबान फिसल गई और वह इमरती देवी को वोट देने के बजाय पंजे का बटन  दबाने की अपील कर गए.

वीडियो हो रहा वायरल

वायरल वीडियो में बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया पहले कांग्रेस का नाम लेते हैं और फिर बीजेपी का नाम सुनाई पड़ता है. चुनाव प्रचार के दौरान सिधिंया कहते हैं कि मुट्ठी बांधकर विश्वास दिलाओ कि 3 तारीख को हाथ के पंजे वाला बटन दबेगा और कांग्रेस….कमल के फूल वाला बटन दबेगा और बीजेपी को जीत मिलेगी. सिंधिया के इस भाषण का वीडियो ट्वीटर पर शेयर किया जा रहा है. लोग इस पर तरह-तरह के कमेंट्स भी कर रहे हैं.

Also read-  “You Have Huge Responsibility In India’s Development In Next 25 Years”, PM Modi’s Addresses Civil Service Probationers

बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के बगावत के बाद ही मध्यप्रदेश में उपचुनाव कराने की नौबत आई है. सिधिंया अपने 26 समर्थक विधायक के साथ कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए थे. उनके कांग्रेस छोड़ने के बाद 2018 में सत्ता मे आई कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस की सरकार गिर गई और फिर से बीजेपी सत्ता में वापस आ गई. विधायकों के इस्तीफा के बाद खाली सीटों पर अब उपचुनाव होने जा रहे हैं. इस दौरान 3 नवंबर को वोटिंग और 10 नवंबर को मतगणना की जाएगी.