बीजेपी नेता अनुराग ठाकुर ने गांधी परिवार को लेकर कहा कुछ ऐसा कि सदन की कार्रवाई स्थगित करनी पड़ी !

लोकसभा में शुक्रवार को उस समय अजीब स्थिति पैदा हो गई जब कांग्रेस सांसदों ने अनुराग ठाकुर के एक रिमार्क के बाद जमकर हंगामा करना शुरु कर दिया. संसद के मानसून सत्र के अंतर्गत आज फाइनेंशियल बिल पर चर्चा के दौरान बीजेपी सांसद अनुराग ठाकुर ने सोनिया गांधी और गांधी परिवार का नाम लेकर कहा कि नेहरु जी ने फंड बनाया आज तक उसका रजिस्ट्रेशन नही कराया. केवल एक परिवार गांधी परिवार के लिए ट्रस्ट बना. इसकी जांच होनी चाहिए जिससे दूध का दूध पानी का पानी हो जायेगा. अनुराग ठाकुर के गांधी परिवार का नाम लेते ही कांग्रेस सांसदों ने हंगामा शुरु कर दिया जिससे सदन की कार्रवाई आधे घंटे के लिए स्थगित करनी पड़ी.

अनुराग ठाकुर
Photo- khabar.ndtv.com

अनुराग ठाकुर के गांधी परिवार का नाम लेने पर हंगामा

लोकसभा में शुक्रवार को पीएम केयर्स फंड को लेकर भाजपा औऱ कांग्रेस सांसदों के बीच जमकर बहस देखने को मिली. कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा कि पीएम केयर्स फंड का नाम प्रधानमंत्री की संस्था से जुड़ा हुआ है. इसलिए यह अधिक उपयुक्त नही होगा. उन्होंने कहा कि अगर यह फंड सार्वजनिक विश्वास के बजाय कानून के माध्यम से बनाया गया होता तो ज्यादा उपयुक्त होता.

मनीष तिवारी के वक्तव्य पर पलटवार करते हुए केन्द्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि- पीएम केयर्स फंड का विरोध केवल विरोध के नाम पर हो रहा है. सुप्रीम कोर्ट तक ने पीएम केयर्स फंड को सही ठहराया है. यह एक चैरिटेबल ट्रस्ट है जिसकी स्थापना भारत के लोगों के लिए की गई है. उन्होंने आगे कहा कि नेहरुजी ने फंड बनाया आज तक उसका रजिस्ट्रेशन नहीं कराया. आपने केवल एक गांधी परिवार के लिए ट्रस्ट बनाया था. सोनिया गांधी को अध्यक्ष बनाया था, इसकी जांच होनी चाहिए.

Also read-  Parliament Monsoon Session 2020: Bills and Amendments Passed, Key Highlights Of The Day

कांग्रेस सांसदों ने किया हंगामा

अनुराग ठाकुर के इस टिप्पणी के बाद कांग्रेस सांसदों ने जमकर विरोध करते हुए हंगामा किया. लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, हिमाचल का ये….कहां से आ गया? ये…कहां से आ गया?  नेहरुजी कहां से आ गए बहस में? हमने मोदी जी का नाम लिया क्या? हंगामें के बीच लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को सदन की कार्रवाई चलाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा जिसके बाद उन्होंने आधे घंटे के लिए सदन को स्थगित कर दिया.