कोरोना टेस्ट के बहाने महिला के प्राइवेट पार्ट से लिया सैम्पल, ऐसा खुला पूरा मामला

कोरोना वायरस के दौरान भी देश के अलग अलग राज्यों से महिलाओं के साथ छेड़खानी और अपराध की ख़बरें सामने आ रही है, ताजा मामला महाराष्ट्र के अमरावती का है , जहाँ एक लैब सैम्पल इकट्ठा करने वाले कर्मचारी ने कोरोना टेस्ट के लिए सैंपल देने गयी लड़की के प्राइवेट पार्ट से सैंपल लेने के बात कही. हालाँकि लड़की को पता नही था और वो राज हो गयी…

कोरोना की जाँच के लिए प्राइवेट पार्ट से लिया सैंपल

ख़बरों की माने तो पीड़ित महिला अमरावती में अपने भाई के साथ रहती है और एक मॉल में नौकरी करती है. मॉल के एक कर्मचारी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद में उसके संपर्क में आए हुए 20 लोगों को अमरावती के ट्रामा केयर टेस्टिंग लैब में कोरोना की जांच के लिए बुलाया गया था, जिसमें यह महिला भी गई थी, महिला ने सैंपल दिया. इसके कुछ दिन बाद फिर महिला को अस्पताल बुलाया गया और कहा गया कि तुम्हारा कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है.

परिजनों के साथ मिलकर दर्ज कराई शिकायत 

दरअसल 24 साल की एक महिला अमरावती के मोदी अस्पताल में कोरोना टेस्ट करवाने गयी थी.जहाँ सैंपल इकट्ठा करने वाले कर्मचारी ने कहा कि  एक बार कोरोना रिपोर्सट पॉजिटिव आई है और अब सही नतीजों के लिए वजाइनल स्वैब लेना जरूरी है और उसका सैंपल ले लिया. हालाँकि जब लड़की बाहर आई और उसने इसके बारे में किसी से बात की तो पता चला कि उसके साथ गलत किया गया है. इसके बाद लड़की और उनके परिजनों ने हिम्मत दिखाई और आरोपी के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई. पुलिस ने आरोपी के खिलाफ IPC की धारा 354 (सेक्शुअल हैरेसमेंट) और 376 (रेप) के तहत केस दर्ज किया है.

वहीँ इस घटना के बाद पूरे इलाके की महिलाओं में गुस्सा है. इलाके की सांसद नवनीत कौर राणा भी अस्पताल का दौरा करने पहुंची और उन्होंने राज्य सरकार को घेरा, नवनीत राणा आने कहा

“सरकार के टेस्टिंग लैब में कॉन्ट्रैक्ट बेस पर एक व्यक्ति को नियुक्त किया गया. वो क्रिमिनल माइंड का है? या फिर दिमागी तौर पर बीमार है? ये सब चेक किए बिना उसे नियुक्त कर लिया गया. और उसने टेस्ट के दौरान थ्रोट स्वैब न लेकर महिलाओं के प्राइवेट पार्ट से स्वैब सैंपल लिया. आज उस लड़की ने शिकायत की, तो पता चला. हमारे राज्य की महिला एवं बाल कल्याण मंत्री यहीं से, इसी ज़िले से आती हैं, अगर ज़िले में महिला एवं बाल कल्याण अपनी महिलाओं को सुरक्षित नहीं रख सकती, तो पूरे महाराष्ट्र की महिलाओं को कैसे सुरक्षा मिलेगी.”

नवनीत कौर राणा

कितनी महिलायें हो चुकी हैं शिकार 

नवनती का इशारा तियोसा विधायक यशोमति ठाकुर की तरफ था. यशोमति कांग्रेस पार्टी से जुड़ी हैं और राज्य में महिला एवं बाल विकास मंत्री हैं. मिल रही जानकारी के मुताबिक़ आरोपी के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने का आदेश दे दिया गया है साथ ही पुलिस अब ये भी जांच करेंगी कि इस आरोपी ने इससे पहले कितनी महिलाओं के साथ इस तरह की हरकत को अंजाम दे चुका है.

हालाँकि ये कोई पहला मामला नही है जब कोरोना संक्रमण के दौरान महिला के साथ इस तरह की हरकत हुई हो. झारखण्ड में कोरोना वार्ड में भर्ती कई महिलाओं प्रेग्नेंट पाई गयी है. साथ ही साथ दिल्ली के एक कोविड अस्पताल में एक महिला के साथ बलात्कार भी हो चुका है.