केआईआईएफबी मसाला बॉन्ड घोटाला: ईडी ने फेमा के उल्लंघन पर सीपीआई (एम) नेता और केरल के पूर्व वित्तमंत्री थॉमस इसाक को जारी किया नोटिस

नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने केरल इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट फंड बोर्ड (केआईआईएफबी) के वित्तीय लेन-देन में कथित उल्लंघन की जांच के सिलसिले में सीपीआई (एम) के वरिष्ठ नेता और पिछली एलडीएफ सरकार में वित्त मंत्री रहे थॉमस इसाक को उनके समक्ष पेश होने के लिए नोटिस जारी किया है।

ईडी इस बात की जांच कर रहा है कि क्या केआईआईएफबी ने फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट (फेमा) का उल्लंघन किया है। ईडी के एक अधिकारी के अनुसार, ‘मसाला’ बांड के माध्यम से विदेशी उधारी-भारतीय संस्थाओं द्वारा भारत के बाहर जारी रुपया-मूल्यवान बांड – फेमा का उल्लंघन है।

सूत्रों ने बताया,“प्रवर्तन निदेशालय ने केरल के पूर्व वित्त मंत्री थॉमस इसाक को मंगलवार को पेश होने के लिए एक नोटिस दिया है। केरल इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट फंड बोर्ड के वित्तीय लेनदेन की जानकारी इकट्ठा करने के लिए नोटिस दिया गया था। ”

पिछले साल राज्य विधानसभा चुनावों के प्रचार के दौरान, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने केआईआईएफबी के कामकाज की आलोचना करते हुए आरोप लगाया था कि नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (कैग) ने इसके वित्तीय लेनदेन की आलोचना की है। उन्होंने केआईआईएफबी के संचालन को “संदिग्ध” भी करार दिया था।

केआईआईएफबी बड़ी और महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के वित्तपोषण के लिए राज्य सरकार की प्राथमिक एजेंसी है और 2019 में दक्षिणी राज्य में बड़ी और महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को निधि देने के लिए 50,000 करोड़ रुपये जुटाने की अपनी योजना के तहत अपने पहले मसाला बांड के माध्यम से 2,150 करोड़ रुपये जुटाए। साभार ऑर्गनाइजर