कैलाश विजायवर्गीय ने अपने ही पार्टी के इस बड़े नेता को दे दी नसीहत, कहा अपनी पुलिस को.. !

अयोध्या में भूमिपूजन के बाद पूरे देश में खुशियां मनाई गई. खूब मिठाईयां बॉटी गई और पटाखे जलाए गए. इस बीच खरगोन में आतिशबाजी कर खुशियां मना रहे कुछ युवकों को पुलिस द्वारा पकड़े जाने को लेकर कैलाश विजयवर्गीय ने अपनी ही सरकार को कटघरे मे खड़ा कर दिया है. बीजेपी के फायरब्रांड नेता औऱ पार्टी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने मध्यप्रदेश के गृहमंत्री को घेरते हुए कहा है कि जब पूरा देश उत्सव मना रहा है ऐसे में खरगोन में जश्न मना रहे युवकों पर पुलिस कार्रवाई पूरी तरह से अनुचित है.  विजयवर्गीय ने गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को कहा कि वे अपनी पुलिस को समझाएं.

कैलाश विजयवर्गीय

कैलाश विजयवर्गीय ने अपने ही सरकार को घेरा

5 अगस्त को अयोध्या में राममंदिर निर्माण के लिए हुए भूमिपूजन के बाद खूब खुशियां मनाई गईं. सभी स्थानों पर लोगों ने अपने-अपने घरों में दिए जलाए, आतिशबाजी की औऱ मिठाईयां बॉटी. इस बीच खरगोन के सराफा बाजार में पुलिस ने कुछ लोगों को जश्न मनाते पकड़ लिया. इस घटना का वीडियो वायरल होने के बाद बीजेपी नेता और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अपनी ही पार्टी की सरकार पर सवाल खड़े किए हैं.

कैलाश विजयवर्गीय ने सराफा बाजार के वीडियो को ट्वीट करते हुए कहा- प्रधानमंत्री ने कहा था कि आज देश के लिए गौरव का दिन है. अय़ोध्या में राम मंदिर का शिलान्यास हुआ. सारा देश खुशियां मना रहा है. ऐसे में खरगोन के सराफा बाजार में उत्सव औऱ खुशियां मनाते युवकों पर पुलिस कार्रवाई अनुचित है.

क्या हुआ था खरगोन में

अयोध्या में राममंदिर भूमिपूजन को लेकर खरगोन के सराफा बाजार में आतिशबाजी करके खुशियां मनाई जा रही थीं. इस बीच वहां पर पुलिस आ जाती है औऱ जश्न मना रहे लोगों से कहासुनी शुरु हो जाती है. वीडियो में दिख रहा है कि पुलिस पटाखों को जमीन से उठा रही है औऱ कुछ युवकों को वहां से गाड़ी मे बिठाकर ले जाती है. घटना के बाद गुस्साए व्यापारियों ने दुकानें बंद कर दी और विरोध करने लगे. बाद में हिरासत में लिए गए सभी लोगों को छोड़ दिया गया. इस घटना का वीडियो काफी वायरल भी हुआ था.

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा गृहमंत्री जी पुलिस को समझाइश दीजिए

कैलाश विजयवर्गीय ने इस ट्वीट के साथ एक और ट्वीट किया जिसमें उन्होंने मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को टैग करते हुए कहा कि खरगोन पुलिस बंगाल पुलिस जैसा आचरण क्यों कर रही है. अपनी पुलिस को समझाइश दीजिए.

बता दें कि दो दिन पहले ही रतलाम में आतिशबाजी पर रोक लगाई गई थी. यहां कलेक्टर ने आदेश जारी करते हुए किसी भी प्रकार की पटाखे के क्रय-विक्रय और व्यक्तिगत उपयोग पर एक पखवाड़े तक प्रतिबंध लगा दिय़ा था.