भारत ने दी ऐसी नसीहत कि पाकिस्तानी नेताओं की बोलती बंद हो जायेगी !

चीनी सीमा पर जारी तनाव के बीच भारत ने कश्मीर को लेकर पाकिस्तान पर बड़ा हमला बोला है. भारत ने जता दिया है कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और पाकिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत के खिलाफ साजिशें करना बंद कर अपनी हरकतों से बाज आना चाहिए. भारत ने कहा है कि आतंकवाद को बढ़ावा देने के कारण पाकिस्तान पहले से ही अपनी किरकिरी करा रहा है और अब कश्मीर मुद्दे को वह अंतर्राष्ट्रीय मंच पर उठा कर भारत के खिलाफ सोची समझी राजनीति कर रहा है. विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव काउंटर टेरोरिज्म जेएस महावीर सिंघवी ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और रहेगा. पाकिस्तान को सीमा पार आतंकवाद को बढ़ावा देना बंद करना चाहिए.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान

कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और रहेगा

भारत ने चीनी सीमा पर तनातनी के बीच पाकिस्तान के खिलाफ बड़ा बयान जारी किया है. कोरोना संकट के समय में भी पाकिस्तान की ओर से हो रही लगातार घुसपैठ को देखते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव काउंटर टेरोरिज्म जेएस महावीर सिंघवी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और रहेगा. वह UNOCT वर्चुयल काउंटर टेरोरिज्म वीक में बोल रहे थे.

महावीर ने कहा- ‘जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और रहेगा. पाकिस्तान को अपनी साजिश खत्म करना चाहिए. जो पाकिस्तान दिखाने की कोशिश करता है वह वास्तव में सीमा पर प्रायोजित आतंकवाद है.’

वजूद पाकिस्तान की ओर से सीमा पर लगातार आतंकवादी घुसपैठ कर रहे हैं. भारत जहां एक ओऱ सीमा पर चीन से गतिरोध झेल रहा है तो वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादी आये दिन कश्मीर में मारे जा रहे हैं. जेएस महावीर ने कहा कि पूरी दुनिया जहां आतंकवाद से मुकाबला कर रही है तो वहीं पाकिस्तान आतंकवाद को मुख्यधारा में शामिल कर रखा है. बता दें कि इससे पहले भी संयुक्त राष्ट्र संघ की एक वर्चुयल बैठक में भारत ने पाकिस्तान पर आतंकवादियों को पनाह देने का आरोप लगाया था.

कश्मीर के लोगों का विश्वास भारत पर

कश्मीरी लोगों को लेकर जेएस महावीर सिंघवी ने कहा कि वहां के लोग पाकिस्तान द्वारा आतंकवाद के रुप में प्रायोजित छद्म युद्ध को वर्षों से झेल रहे हैं. फिर भी उनका विश्वास भारतीय लोकतंत्र में कायम है. भारत ने हमेशा इस बात को दोहराया है. पाकिस्तान हमेशा से ही आतंकवाद को मोहरा बनाकर यह साबित करने की कोशिश करता रहा है कि यह कश्मीरी लोग हैं और अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं लेकिन इसके पीछे की मंशा और पाकिस्तान का असली चेहरा हमेशा ही उजागर होता रहा है.

कश्मीर मे तैनात सेना के जवान

आतंकवाद पाकिस्तान की पॉलिसी

एक ओर जहां पूरी दुनिया आतंकवाद से लड़ने में अपनी पूरी ताकत झोंक रही हैं. तो वहीं पाकिस्तान आतंकवाद को बढ़ावा देने का काम कर रहा है. वहां की सरकार आतंकवादियों से मुकाबला करने के बजाय उन्हें पनाह देने का काम कर रही है. जेएस सिंघवी ने कहा कि ‘भारत सहित पूरी दुनिया में मानवाधिकारों को बढ़ावा दिए जाने का काम हो रहा है तो वहीं पाकिस्तान आतंकवाद को खुलेआम मुख्यधारा में शामिल कर हजारों बेगुनाह लोगों का कत्ल करा रहा है.’ उन्होंने कहा कि यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि जिस देश ने मुबंई, पठानकोट, उरी और पुलवामा जैसे आतंकवादी हमले कराए हों वह विश्व समुदाय को उपदेश दे रहा है.