कपिल सिब्बल ने छोड़ी कांग्रेस, समाजवादी पार्टी के कोटे से राज्यसभा में जाने की तैयारी

कांग्रेस के दिन कुछ अच्छे नहीं चल रहे हैं। हार्दिक पटेल के बाद अब वरिष्ठ कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल ने भी कांग्रेस पार्टी को झटका दे दिया है। इसके बाद सिब्बल ने उत्तर प्रदेश में सपा मुख्यालय में सांसद राम गोपाल यादव और पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव की उपस्थिति में राज्यसभा के लिए नामांकन दाखिल किया। लेकिन सिब्बल अभी समाजवादी पार्टी में शामिल नहीं हुए हैं।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा कि उन्होंने 16 मई को कांग्रेस छोड़ दी है और अब एक स्वतंत्र आवाज हैं। हालांकि सपा प्रमुख अखिलेश यादव और सिब्बल ने उनके शामिल होने का खुलासा नहीं किया था।

सिब्बल ने नामांकन भरने के बाद कहा,”मैंने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन दाखिल किया है, मैं शुरू से ही देश में एक स्वतंत्र आवाज बनना चाहता था”, “आप जानते हैं कि मैं राज्यसभा में अपनी आवाज उठाता था। पिछली बार भी मैं यूपी से उम्मीदवार था। मैं तब आपकी आवाज उठाता था और अगले छह साल में भी यही करूंगा।”

सिब्बल ने आगे कहा “हम गठबंधन बनाने के लिए विपक्ष में रहते हुए एक-दूसरे का समर्थन करने जा रहे हैं ताकि हम मोदी सरकार का विरोध कर सकें। 2024 में मोदी सरकार का विरोध करने के लिए हमें मिलकर काम करना होगा, ऐसा माहौल बनाना होगा जहां मोदी सरकार के दोष लोगों तक पहुंचे। हम उसके लिए प्रयास करेंगे, ”

जनवरी 2017 में सिब्बल ने चुनाव आयोग में यादव परिवार के झगड़े को लेकर तर्क दिया था कि अखिलेश यादव को ‘साइकिल’ का चुनाव चिन्ह मिलना चाहिए। और अंत में अखिलेश को चिन्ह मिल गया, जो इस बात का संकेत है कि सिब्बल के यादव परिवार से घनिष्ठ संबंध हैं।