अंतरिक्ष में भारत की लंबी उड़ान, इसरो ने भारत सहित 9 विदेशी उपग्रहों का प्रक्षेपण कर रचा इतिहास

इसरो ने एक बार फिर कामयाबी के झंडे गाड़ते हुए अंतरिक्ष में लंबी उड़ान भरी है. कोरोना महामारी और अनलॉक के इस दौर में इसरो ने सैटेलाइच लॉन्च करते हुए इतिहास रच दिया है. श्री हरि कोटा स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से भारत ने स्वदेशी अर्थ ऑब्जर्वेशन सैटेलाइट के अलावा 9 विदेशी कमर्शियल सैटेलाइट को लांच किया. इसे रॉकेट पीएसएलवी सी-49 से अंतरिक्ष में भेजा गया. भारत द्वारा भेजा गया राडार इमेजिंग सैटेलाइट बादलों के पार देख सकने में सक्षम हैं. यह एडवांस्ड राडार सिस्टम किसी भी मौसम में बादलों के पार भी देख सकता है.

इसरो की कामयाबी
Photo-swadeshnews.in

भारत की बड़ी उपलब्धि

भारत ने अंतरिक्ष की दुनिया मे कामयाबी का एक और कदम बढ़ाते हुए बड़ी उपलब्धि हासिल की है. भारत ने अर्थ ऑब्जर्वेटरी सिस्टम को अंतरिक्ष में भेजा है. इसमें लगा प्राइमरी सैटेलाइट EOS01 एक राडार इमेजिंग सैटेलाइट है. इसका एडवांस्ड रिसैट सिंथैटिक अपरचर राडार बादलों के पार देख सकने में सझम है. यह राडार किसी भी मौसम में दिन या रात में भी बादलों के बार देख सकने में सक्षम है. इससे देश की आंतरिक सुरक्षा और मजबूत हो सकेगी औऱ समुद्री सीमा की भी पुख्ता निगरानी हो सकेगी. खबर के अनुसार यह सैटेलाइट एग्रीकल्चर, वानिकी औऱ भू-गर्भ शास्त्र के अध्ययन मे काफी कारगार साबित होगी.

यह भी पढ़ें- संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत की बड़ी जीत, सलाहकार समिति के लिए चुनी गई भारतीय राजनयिक

9 विदेशी सैटेलाइट भी लांच

इसके अलावा भारत ने 9 विदेशी कमर्शियल सैटेलाइट भी अंतरिक्ष में भेजे हैं. जिसमें लिथुआनिया का एक, लक्जमबर्ग के 4 और 4 अमेरिकी सैटेलाइट शामिल हैं. सभी की कामयाब लॉचिंग से इसरो ने नया इतिहास रच दिया है. यह इसरो का 51वां मिशन है. इन विदेशी उपग्रहों के लाचिंग के साथ ही इसरो के नाम एक और बड़ी उपलब्धि दर्ज हो गई है. भारत ने अब तक 328 विदेशी सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेजने में कामयाबी हासिल की है.

Also read-  10 Offbeat Places In India One Should Visit Once In A Lifetime: Travel Beats