IPL-2020: मुबंई इंडियंस ने इतिहास रचते हुए छठी बार IPL के फाइनल में प्रवेश किया, जानिए फाइनल में क्या रहा है रिकार्ड

मुंबई इंडियंस ने धमाकेदार प्रदर्शन करते हुए इंडियन प्रीमियर लीग-2020 के फाइनल में प्रवेश कर लिया है. मौजूदा चैंपियन मुंबई ने दिल्ली कैपिटल्स को 57 रनों से शिकस्त देकर छठी बार IPL के फाइनल में पहुंचा है. बता दें कि मुबंई इंडियस 4 बार IPL का खिताब जीत चुकी है. मुंबई से ज्यादा फाइनल सिर्फ चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम ही खेली हुई है. आईपीएल का खिताबी मुकाबला 10 नवंबर को दुबई में खेला जाएगा. फाइनल मे मुबंई टीम का मुकाबला क्वालिफायर-2 जीतने वाली टीम से होगा. दूसरा क्वालिफाइंग मैच रविवार को खेला जाएगा.

IPL-2020
Photo-bbc.com

मुबंई इंडियंस IPL  के फाइनल में

मौजूदा चैंपियन मुबंई इंडियंस ने क्वार्टरफाइनल में चैंपियस की तरह खेलते हुए पहले शानदार बल्लेबाजी दिखाई और फिर उतनी ही शानदार गेंदबाजी का नजारा पेश किया. मुबंई ने टॉस हार कर पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवरों में 5 विकेट के नुकसान पर 200 रन बनाए. जिसके जवाब में दिल्ली कैपिटल्स 8 विकेट के नुकसान पर 143 रन ही बना सकी. मुबंई इंडियंस की तरफ से ईशान किशन ने 55 और सूर्यकुमार यादव ने 51 रन का योगदान दिया. मुबंई इंडियंस ने अंतिम 3 ओवरों में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए 55 रन बनाए.

दिल्ली कैपिटल्स की खराब शुरुआत

बड़े लक्ष्य के सामने दिल्ली ने बेहद ही खराब शुरुआत की. मुंबई इंडियंस की तरफ से घातक गेंदबाजी करते हुए ट्रेंट बोल्ट ने पहले ही ओवर में पृथ्वी शॉ और आजिंक्य रहाने को आउट किया. उसके बाद जसप्रीत बुमराह ने अगले ओवर में शिखर धवन को आउट कर दिल्ली की उम्मीदों पर पानी फेर दिया. 41 रनों के स्कोर पर दिल्ली की आधी टीम पैवेलियन लौट चुकी थी. इस तरह दिल्ली कैपिटल्स की टीम 20 ओवरों में केवल 143 रन ही बना सकी. और मुबंई इंडियंस 57 रनों से जीत दर्ज करने में कामयाब रही. मुबंई की तरफ से जसप्रीत बुमराह ने कहर बरपाते हुए 14 रन देकर 4 विकेट हासिल किए. उन्हें ‘मैन ऑफ द मैच ‘ घोषित किया गया.

Also read-  Shraddha Kapoor Becomes 3rd Most Followed Indian On Instagram, Beats Deepika Padukone

मुबंई इंडियंस छठी बार फाइनल में

मुबंई इंडियंस ने दिल्ली कैपिटल्स को हरा कर छठी बार आईपीएल के फाइनल में एंट्री की है. इससे पहले 2013, 2015, 2017 और 2019 में मुंबई की टीम खिताब पर कब्जा जमा चुकी है जबकि 2010 में उसे फाइनल में हार का सामना करना पड़ा था. यही नही यह पहली बार है जब मुबंई लगातार दूसरी बार फाइनल में पहुंची है.