सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने दिया रेप कल्चर को बढ़ावा देने वाले लेयर’आर शॉट बॉडी स्प्रे के विवादास्पद विज्ञापन को रद्द करने का आदेश

“रेप कल्चर” को बढ़ावा देने वाले विज्ञापन के खिलाफ सोशल मीडिया पर व्यक्त हुई भारी नाराजगी के बाद सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने परफ्यूम ब्रांड ‘लेयर’ शॉट के विज्ञापन को रद्द करने की घोषणा की है।

LAYER’R शॉट के हाल के दो विज्ञापनों में, एक लड़की को लड़कों के एक समूह द्वारा अनुचित टिप्पणी करते हुए दिखाया गया है और लड़की यौन उत्पीड़न से भयभीत, दिखाई गयी है। इन विज्ञापनों की ट्विटर सहित अन्य सोशल मीडिया मंचों पर कड़ी आलोचना की गई है। लोगों ने इन विज्ञापनों को रेप कल्चर को बढ़ावा देने वाले और समाज को गलत संदेश देने वाले बताया है।

हालांकि शनिवार को सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने विज्ञापन के खिलाफ सख्त कार्रवाई की और एक विवादास्पद विज्ञापन को रद्द करने का आदेश दिया, जिसमें कथित तौर पर महिलाओं के बारे में अपमानजनक तरीके से बात की गई थी। विज्ञापन कोड के तहत पूछताछ भी शुरू कर दी गई है।

I&B मंत्रालय ने भी ट्विटर और यूट्यूब को अपने प्लेटफॉर्म से इस विज्ञापन को तुरंत हटाने का आदेश दिया है।

पहले विज्ञापन में, “शॉट मारा” और “अब हमारी बारी” जैसे शब्दों का इस्तेमाल तीन दोस्तों में से एक द्वारा किया गया था, जो एक महिला और एक पुरुष के बीच अंतरंग क्षण के बीच आ गए थे। उसके बाद महिला शायद हमला किए जाने के डर से पीछे हट जाती है। हालांकि, आदमी ड्रेसर से ‘शॉट’ परफ्यूम की बोतल उठाता है और उसे अपने शरीर पर छिड़क देता है।

“हम चार और ये एक”… शॉट कोन लेगा?” एक अन्य विज्ञापन में चार पुरुषों को एक स्टोर में बातचीत करते दिखाया गया है। बॉडी परफ्यूम की सिर्फ एक बोतल बची है, तो उस आदमी ने पूछा कि कौन लेगा? वहीं विज्ञापन के दूसरे पार्ट में महिला डरी और सहमी नजर आ रही थी।

घटना के बाद लोगों ने महिलाओं का अनादर करने और रेप कल्चर को बढ़ावा देने के लिए विज्ञापनों की आलोचना की।

दिल्ली महिला आयोग (DCW) की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने ट्वीट करके इस विज्ञापन को लेकर अपना गुस्सा जाहिर किया। ट्वीट में स्वाति ने लिखा ऐसे कुकृत्यों के लिए कंपनी के मालिकों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए। दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया है और सूचना एवं प्रसारण मंत्री को लिखित पत्र लिखकर एफआईआर और कड़ी कार्रवाई की मांग की है।