चीन में लागू नए नियम के अनुसार वित्त, कानून और ‘आचार संहिता’ जैसे मुद्दों पर बात करने के लिए इन्फ्लुएंसर्स के पास पेशेवर योग्यता होनी चाहिए

रिपोर्ट के अनुसार कि चीन में निति निर्धारकों ने इन्फ्लुएंसर्स और लाइव स्ट्रीमर्स के लिए एक नया नियम लागू किया है, जिसके अनुसार उन्हें चिकित्सा, स्वास्थ्य देखभाल, वित्त, कानून, शिक्षा आदि क्षेत्रों के बारे में सलाह देने के लिए अपनी पेशेवर योग्यता बताना आवश्यक होगा। अधिकारियों ने प्रमुख चीनी अधिकारियों या अन्य ऐतिहासिक शख्सियतों की नकल या पैरोडी को भी गैरकानूनी घोषित कर दिया है।

द स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ़ रेडियो एंड टेलीविज़न ऑफ़ चाइना और द मिनिस्ट्री ऑफ़ कल्चर एंड टूरिज्म ने देश के विस्तारित लाइवस्ट्रीमिंग समुदाय के लिए एक नई “आचार संहिता” की स्थापना की है। जिसके लिए आवश्यक है कि कोई भी इन्फ्लुएंसर यदि चिकित्सा, वित्त, या कानूनी सलाह आदि के संबंध में कंटेंट निर्माण करता है तो उसके पास ऐसा करने की योग्यता होना आवश्यक है।

अब, किसी स्ट्रीमर का वीडियो जारी होने से पहले, लाइवस्ट्रीमिंग प्लेटफ़ॉर्म उनके कौशल का मूल्यांकन करने और उसे अधिकृत करने के प्रभारी होगा। आचार संहिता को तोड़ने वाले इन्फ्लुएंसर्स पर लाइवस्ट्रीमिंग से स्थायी प्रतिबंध भी लगाया जा सकता है। बीजिंग नियमित रूप से प्रस्तुतकर्ताओं की एक ब्लैकलिस्ट जारी करके बुरे प्रभावकों को बेनकाब करने का इरादा रखता है जिससे प्रसारकों से बचने की उम्मीद की जाती है।

इंटरनेट सामग्री पर कड़ा नियंत्रण रखने के बीजिंग के प्रयासों को उन नियमों द्वारा आगे बढ़ाया गया है जिनमें इन्फ्लुएंसर्स को अपनी योग्यता प्रदर्शित करने की आवश्यकता होगी।

चीन के ई-कॉमर्स दिग्गज जिन्होंने एक आकर्षक आय स्रोत के रूप में लाइवस्ट्रीमिंग को अपनाया है ऐसे कठोर नियमों के परिणामस्वरूप पीड़ित हो सकते हैं। कंसल्टेंसी कंपनी मैकिन्से के अनुसार, लाइवस्ट्रीम अब चीन की ई-कॉमर्स आय का 10% है, और एक कुशल लाइवस्ट्रीमर बिक्री में अरबों का उत्पादन कर सकता है।