इतिहास में पहली बार Railway को चलानी पड़ी अकेले सवारी के लिए 535 Km ट्रेन, जानिए क्या है पूरा मामला

Indian Railway के इतिहास में आपने कभी नहीं सुना होगा कि एक अकेले सवारी के लिए ट्रेन को सैकड़ों किलोमीटर का सफर तय करना पड़ा हो। भले ही यह बात आपको चौका दे लेकिन ऐसा हुआ है, दरअसल एक युवती की जिद के आगे पूरी रेलवे को झुकना पड़ा और इकलौती सवारी के लिए राजधानी एक्सप्रेस को 535 किलोमीटर दूर रांची भेजना पड़ा।

Photo – Social Media

जानिए अखिर क्या है पूरा मसला

दरअसल स्पेशल राजधानी एक्सप्रेस दिल्ली से रांची के लिए निकली, ट्रेन में 930 सवारी सवार थे, बता दें झारखंड में तीन दिन से टाना भगत आंदोलन कर रहे हैं, इस कारण कई ट्रेनें बीच रास्ते में ही फंस रही है, रेलवे ट्रैक पर चल रहे आंदोलन के कारण राजधानी एक्सप्रेस को डालटनगंज स्टेशन पर ही रोक दिया गया था जिसके बाद ट्रेन में सवार 930 यात्रियों में से 929 यात्री यहीं पर उतरकर बसों से अपने गंतव्य के लिए रवाना हो गए, लेकिन बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में एलएलबी की पढ़ाई करने वाली अनन्या नहीं उतरी।

Photo – Social Media

अनन्या का साफ कहना था कि उन्होंने ट्रेन की टिकट कटाई है तो वह ट्रेन से ही अपने गंतव्य स्थान तक जाएंगी, Railway अधिकारियों द्वारा उन्हें बस या कार से रांची जाने से साफ इंकार कर दिया, पहले तो रेलवे अधिकारी उसकी बात मानने से इंकार कर रहे थे लेकिन जब लड़की ने जिद पकड़ ली कि जब रांची का टिकट कटाया है तो रांची तक ट्रेन से ही जाएंगे तो Railway को इसके आगे झुकना ही पड़ा।

Also Read – Ram Mandir निर्माण शुरू होने के साथ ही देशभर में बढ़ी श्रीराम मूर्तियों की डिमांड

Railway ने रूट बदल कर ट्रेन भेजी रांची

ट्रेन को डालटनगंज से सीधे रांची आना था, डालटनगंज से रांची की दूरी 308 किलोमीटर है। लेकिन आंदोलन के कारण ट्रेन को गया से गोमो व बोकारो होकर रांची रवाना करना पड़ा। इस तरह ट्रेन को 535 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ी। यही नहीं पूरी ट्रेन में एक मात्र लड़की होने के कारण की सुरक्षा के लिए आरपीएफ की कई महिला सिपाही भी तैनात की गई।