ग्लोबल एयर पावर्स 2022 की रैंकिंग में चीन को पछाड़कर भारत बना विश्व की तीसरी सबसे बड़ी शक्ति

चीन को झटका देते हुए भारतीय वायुसेना ने एक महान उपलब्धि हासिल की है। वर्ल्ड डायरेक्टरी ऑफ मॉडर्न मिलिट्री एयरक्राफ्ट (WDMMA) के अनुसार, भारतीय वायु सेना अमेरिका और रूस के बाद दुनिया की तीसरी सबसे मजबूत वायु सेना के रूप में उभरी है।

भारतीय वायु सेना ने न केवल चीनी वायु सेना, बल्कि जापान, इजरायल और फ्रांसीसी वायु सेना को पीछे छोड़ दिया है।

WDMMA द्वारा लगभग 98 देशों को ट्रैक किया गया था, जो 124 हवाई सेवाओं को कवर करता है और कुल 47,840 विमानों को फॉलो करता है, यह विभिन्न प्रकार के मापदंडों के आधार पर दुनिया भर में आधुनिक सैन्य विमानन सेवाओं का आकलन करता है और एक रिपोर्ट तैयार करता है, जिसमें उनकी वर्तमान ताकत और अंतर्निहित सीमाओं का सारांश होता है।

दुनिया भर में आधुनिक सैन्य हवाई सेवाओं पर अपनी वार्षिक रैंकिंग तैयार करते समय, WDMMA एक सूत्र का उपयोग करता है जो राष्ट्रों की विभिन्न हवाई सेवाओं की कुल युद्ध शक्ति से संबंधित मूल्यों को ध्यान में रखता है।
डब्ल्यूडीएमएमए, अलग अलग देशों की वायुशक्ति पर रिसर्च करता है और इसके लिए आधुनिकिकरण, रक्षा क्षमता, आक्रमण क्षमता, लॉजिस्टिक सपोर्ट, हमला करने की क्षमता जैसे प्वाइंट्स को विश्लेषण करता है और ‘ट्रू वैल्यू रेटिंग’ (TvR) तैयार करता है।
इस प्रकार, किसी देश की सैन्य वायु शक्ति का विश्लेषण न केवल उसके विमान की कुल मात्रा के आधार पर किया जाता है, बल्कि उसकी गुणवत्ता और इन्वेंट्री के सामान्य मिश्रण के आधार पर किया जाता है।

इस बीच, यूएस एयर फ़ोर्स (USAF) का वर्ल्डवाइड एयर पॉवर्स में सबसे अधिक TvR स्कोर 242.9 है।

इस सूचि में शीर्ष दो स्थानों पर अमेरिकी वायु सेना और अमेरिकी नौसेना ने कब्जा किया है, इसके बाद रूसी वायु सेना, यूएस आर्मी एविएशन और यूएस मरीन कॉर्प्स का स्थान रहा। सूची के तीसरे स्थान पर भारतीय और चौथे स्थान चीनी वायु सेना का स्थान है।