झारखंड के सीएम सोरेन ने कहा- आदिवासी कभी नहीं थे हिंदू, भाजपा ने दिया करारा जवाब

128

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन आदिवासियों के लिए अलग धार्मिक संहिता की लगातार पैरवी कर रहे हैं, ऐसे में उन्होंने आदिवासियों को लेकर एक ऐसा बयान दिया है जिसे भाजपा ने मुद्दा बना लिया है। बता दें कि सोरेन के बयान से एक नया विवाद खड़ा हो गया है। दरअसल हेमंत सोरेन ने कहा कि आदिवासी कभी हिंदू नहीं थे। केंद्र सरकार को अगली जनगणना में इनकी गिनती के लिए अलग से कालम की व्यवस्था करनी चाहिए। सोरेन के इस बयान पर भारतीय जनता पार्टी हेमंत सोरेन सरकार पर हमलावर हो गई है। बीजेपी ने सोरेन पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री वेटिकन के हाथों में खेल रहे हैं।

हेमंत सोरेन ने यह बयान शनिवार की देर रात हार्वर्ड इंडिया कांन्फ्रेंस के दौरान दिया। हेमंत सोरेन इस कांफ्रेंस को वर्चुअल माध्यम से संबोधित कर रहे थे। कांफ्रेंस का आयोजन हार्वर्ड बिजनेस स्कूल और हार्वर्ड कैनेडी स्कूल के छात्रों ने किया था।

इस प्रेस कांफ्रेंस में उनसे पूछा गया कि, क्या आदिवासी हिंदू नहीं हैं। इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इस पर कोई भ्रम नहीं है। आदिवासी कभी भी हिंदू नहीं थे, न ही अब वे हिंदू हैं। आदिवासी प्रकृति के उपासक हैं। इनके रीति-रिवाज भी अलग हैं। सदियों से आदिवासी समाज को दबाया जाता रहा है। कभी इंडिजिनस, कभी ट्राइबल तो कभी अन्य तरह से पहचान होती रही। बता दें कि उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि, जनगणना में आदिवासियों के अलग कालम होना चाहिए।

इस बयान को लेकर जहां कांग्रेस ने अपना पल्ला झाड़ लिया है, तो वहीं भाजपा हमलावर हो गई है। मुख्यमंत्री के बयान पर हमला करते हुए झारखंड के भाजपा प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय मंच पर इस तरह की बातें बताती हैं कि सीएम वेटिकन के हाथों में खेल रहे हैं। हमारे पास संवैधानिक निकाय हैं। सरना कोड जैसे मुद्दे पर निर्णय लेने के लिए विधायिका और न्यायपालिका हैं। सोरेन अंतर्राष्ट्रीय मंच पर इस तरह की बातें कहकर विदेशी लोगों को हमारे मामलों में दखल देने की अनुमति दे रहे हैं।

दरअसल 2011 की जनगणना के अनुसार आदिवासियों की जनसंख्या 3.24 करोड़ है। वहीं झारखंड की आबादी का लगभग 26% आदिवासी हैं। आदिवासी अधिकार कार्यकर्ताओं के अनुसार राज्य के अधिकांश आदिवासी जो ईसाई नहीं हैं, उन लोगों ने 2011 की जनगणना में धार्मिक पहचान वाले कालम में अदर का चुनाव किया था।