विकास दूबे की अपराध वाली फाइल गायब, पुलिस महकमे में मचा हडकंप!

“विकास दूबे कानपुर वाला” घटना की जाँच चल रही है. सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित की गयी एसआईटी इस केस की जाँच कर रही है. विकास दूबे का एनकाउंटर उस वक्त कर दिया गया था जब वो अपने साथियों के साथ आठ पुलिस कर्मियों को मारकर फरार हो गया था, इसके बाद उसे उज्जैन से गिरफ्तार किया गया  और जब उसे उज्जैन से यूपी लाया जा रहा था तब वो भागने का प्रयास करने लगा और इसके बाद उसका एनकाउंटर कर दिया गया.

आपको बता दें कि अब इस मामले की जाँच की जा रही है. जाँच में विकास दूबे से जुड़े हर मामले को पैनी नजर से देखा जा रहा है. इसी बीच पता चला कि 2004 में कानपुर में हुए केबिल ऑपरेटर हत्याकांड में विकास दुबे का भी नाम आया था, अब जांच में पता चला कि उस केस से जुड़ी फाइलें गायब हो गई हैं. हालांकि उस केस में वह बरी हाे गया था. फाइल गायब होने की जानकारी मिलते ही पुलिस की धड़कनें बढ़ गई हैं. इस मामले में एसआईटी और न्यायिक जांच आयोग दोनों ने ही रिपोर्ट मांगी है पर फाइल का कुछ पता नहीं है.

वहीँ गायब हुई फाइलों के बारे में बड़े अधिकारियों को सूचित कर दिया गया है और अब ये पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि आख़िरकार विकास दूबे के इस अपराध वाली फाइल गायब कैसे हो गयी. आपको बता दें कि सन 2004 में बर्रा 2 निवासी केबिल ऑपरेटर दिनेश दुबे की हत्या कर दी गई थी. घटना को बर्रा 7 में अंजाम दिया गया था. इस मामले में विकास दुबे समेत चार लोग आरोपित थे, लेकिन विकास दूबे बच गया था और दो सगे भाइयों को सजा हुई थी. इसी मामले की तहकीकात अब एसआईटी करना चाहती है लेकिन अपराध की फाइल गायब हो गयी है.

वहीँ जांच में ये बात भी सामने आई है कि विकास दूबे पैसे के लेन देन के लिए दो फर्जी खातों का इस्तेमाल करता था ये खाते फर्जी आईडी पर खोले गये थे. हालाँकि इनका इस्तेमाल खुद विकास दूबे ही करता था और बड़े ही सावधानी से करता था. अभी जाँच जारी है देखते हैं और क्या-क्या निकल कर सामने आता है.