शिमला से प्रधानमंत्री मोदी ने ट्रांसफर किए देश के 10 करोड़ से भी ज्यादा किसानों के खाते में 21000 करोड़ रूपए

नरेंद्र मोदी सरकार के आठ साल पूरे होने पर हिमचाल प्रदेश की राजधानी शिमला में ‘गरीब कल्याण सम्मेलन’ आयोजित किया गया। जिसमें भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिरकत की। अपने भाषण के प्रधानमंत्री मोदी ने हर भारतवासी के लिए काम करने का प्रण लिया है। शिमला के ऐतिहासिक रिज से अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि 130 करोड़ भारतीयों के सेवक के तौर पर काम करने का मुझे आप सबने जो अवसर दिया, मुझे जो सौभाग्य मिला है, उसके कारण ही आज मैं कुछ कर पाता हूं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जीवन में जब हम बड़े लक्ष्यों की तरफ आगे बढ़ते हैं, तो कई बार यह देखना भी जरूरी होता है कि हम चले कहां से थे। हम अगर 2014 से पहले के दिनों को याद करें, तब जाकर आज का मूल्य समझ आएगा। 2014 से पहले अखबारों में सुर्खियां रहती थी, हैडलाइन बनी रहती थी, टीवी पर चर्चा होती रहती थी और बात होती थी लूट-खसूट की। बात होती थी भ्रष्टाचार की, घोटालों की, भाई-भतीजावाद की, अफसरशाही की, अटकी-लटकी-भटकी योजनाओं की।
लेकिन वक्त बदल चुका है। आज चर्चा होती है सरकारी योजनाओं से मिलने वाले लाभ की। सिरमौर से हमारी कोई समादेवी कह देती है कि मुझे ये लाभ मिल गया। आखिरी घर तक पहुंचने का प्रयास होता है। गरीबों के हक का पैसा सीधे उनके खातों में पहुंचने की बात होती है। आज चर्चा होती है दुनिया में भारत के स्टार्टअप की। 2014 से पहले की सरकार ने भ्रष्टाचार को सिस्टम का जरूरी हिस्सा मान लिया था, तब की सरकार भ्रष्टाचार से लड़ने की बजाय उसके आगे घुटने टेक चुकी थी। तब देश देख रहा था कि योजनाओं का पैसा जरूरतमंद तक पहुंचने के पहले ही लुट जाता है।

पहले इलाज के लिए पैसे जुटाने की बेबसी थी, आज हर गरीब को आयुष्मान भारत का सहारा है। पहले ट्रिपल तलाक का डर था, अब अपने अधिकारों की लड़ाई लड़ने का हौसला है।

2014 से पहले देश की सुरक्षा को लेकर चिंता थी, आज सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक का गर्व है, हमारी सीमा पहले से ज्यादा सुरक्षित है। पीएम ने कहा हमारे देश में दशकों तक वोटबैंक की राजनीति हुई है, लेकिन हम वोटबैंक बनाने के लिए नहीं, हम नए भारत को बनाने के लिए काम कर रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि बीते आठ वर्षों के प्रयासों के जो नतीजे मिले हैं, उनसे मैं बहुत विश्वास से भरा हुआ हूं। हम भारतवासियों के सामर्थ्य के आगे कोई भी लक्ष्य असंभव नहीं। आज भारत दुनिया की सबसे तेज़ी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में एक है।

आज भारत में रिकार्ड विदेशी निवेश हो रहा है। आज भारत रिकार्ड एक्सपोर्ट कर रहा है। आठ साल पहले स्टार्टअप्स के मामले में हम कहीं नहीं थे, आज हम दुनिया के तीसरे बड़े स्टार्टअप इकोसिस्टम हैं। करीब-करीब हर हफ्ते हजारों करोड़ रुपए की कंपनी हमारे युवा तैयार कर रहे हैं। आने वाले 25 साल के विराट संकल्पों की सिद्धि के लिए देश नई अर्थव्यवस्था के नए इन्फ्रास्ट्रक्चर का निर्माण भी तेजी से कर रहा है।

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि मुझे शिमला की धरती से देश के 10 करोड़ से भी ज्यादा किसानों के खाते में 21000 करोड़ पहुंचाने का सौभाग्य मिला है। वे किसान भी शिमला को याद करेंगे, हिमाचल को याद करेंगे, इस देवभूमि को याद करेंगे। अभी देश के करोड़ों-करोड़ किसानों को उनके खाते में पीएम किसान सम्मान निधि का पैसा ट्रांसफर हो गया, पैसा उनको मिल भी गया।

 

इस मौके पर हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में भी बीते चार सालों में भाजपा की सरकार ने बेहतरीन काम करने का प्रयास किया। मुख्यमंत्री ने केंद्र से हिमाचल को 10 हजार करोड़ रुपए की योजनाओं की स्वीकृति के लिए प्रधानमंत्री का आभार जताया। एम्स और तीन मेडिकल कालेज हिमाचल प्रदेश को मिले। हिमाचल में स्वास्थ्य सेवाएं सुदृढ़ हो रही हैं। रोहतांग टनल के काम को गति देकर उसका उद्घाटन किया। ग्लोबल इन्वेस्टर मीट में लगभग 50 हजार करोड़ के ग्राउंड ब्रेकिंग साथ प्राइवेट सेक्टर का इनवेस्टमेंट लाया। मंडी से साढ़े 11 हजार करोड़ के उद्घाटन और शिलान्यास किए।

सबको चुकाने वाले प्रधानमंत्री मोदी से माल रोड पर रोड शो के दौरान मुख्यमंत्री ने ही लोगों से मिलने के लिए प्रधानमंत्री से गाड़ी से उतरने का आग्रह किया था। जो उन्होंने सहर्ष स्वीकार कर लिया। मंच से जब सीएम जयराम ठाकुर ने प्रधानमंत्री के समक्ष अपने संबोधन में मिशन रिपीट की हुंकार भरी, तो पीएम ने तालियां बजाकर उसका समर्थन किया। जयराम ठाकुर की बॉडी लैंग्वेज भी इस दौरान आत्मविश्वास से भरी थी।