अब दुश्मनों की खैर नही, भारत ने घातक एंटी टैंक मिसाइल ‘नाग’ का किया सफल परीक्षण, जानिए इसकी खासियत

लद्दाख सीमा पर जारी तनाव के बीच भारत ने एक और मिसाइल का परीक्षण कर सामरिक शक्ति मे एक कदम आगे बढ़ गया है. भारत ने गुरुवार को वारहेड के साथ ‘नाग’ एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का अंतिम परीक्षण सफलता पूर्वक किया है. मिसाइल का परीक्षण सुबह 6.45 पर राजस्थान के पोखरण फील्ड रेंज में किया गया. इस परीक्षण के बाद यह मिसाइल चीन के साथ जारी तनाव के मद्देनजर सीमा पर तैनात करने के लिए तैयार है.

नाग मिसाइल
Photo-navodayatimes.in

एंटी टैंक मिसाइल नाग का सफल परीक्षण

भारत ने डीआरडीओ द्वारा विकसित नाग एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का अंतिम परीक्षण सफलतापूर्वक कर लिया है. पिछले डेढ़ महीने मे डीआरडीओ द्वारा 12 मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया है. डीआरडीओ प्रमुख जी सतीश रेड्डी ने बताया कि DRDO स्वदेशी मिसाइलों को तैयार करने में जुटा हुआ है. जल्द ही मिसाइल क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाया जाएगा.

मिसाइल की खासियत

नाग मिसाइल एक तीसरी पीढ़ी की एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल है. जिसमें उच्च दर्जे की मारक क्षमता है जो दिन और रात के दौरान सभी दुश्मन टैंको को प्रभावी ढंग से नष्ट कर सकती है. यह जमीन से 4 किलोमीटर तक जबकि हेलीकाप्टर से 5 किलोमीटर तक मार सकती है. यह मिसाइल काफी हल्की है इसलिए इसे कहीं भी ले जाया जा सकता है. नाग मिसाइल का यह अंतिम टेस्ट था. इससे पहले साल 2017, 2018 और 2019 में कई तरह की नाग मिसाइलों का परीक्षण हो चुका है.

Also read-  APJ Abdul Kalam Birth Anniversary: Read five contributions of APJ Abdul Kalam that define him more than just ‘Missile Man’

बता दें कि मिसाइल परीक्षण का समय भारत के लिए बेहद ही अहम है. सीमा पर चीन के साथ जारी तनाव चरम पर है. मिसाइल के साथ ही भारत ने आज बारुदी सुरंग रोधी प्रणाली से लैस स्वदेशी स्टील्थ युद्धपोत INS कावरत्ती भी नौसेना के बेड़े में शामिल किया है.