योगी के गढ़ में बीजेपी नेता ने की बगावत! परेशान हुए रवि किशन ने दिया ये बयान

गोरखपुर की राजनीति की बात होती है तो योगी आदित्यनाथ का नाम अपने आप जुड़ जाता है. गोरखपुर में इन दिनों राजनीति गर्म हैं. बीजेपी के विधायक डॉ. आरएमडी अग्रवाल अपनी ही पार्टी के लिए मुश्किलें खड़ी कर रहे हैं.  डा. अग्रवाल अपने ही नेताओं पर हमला कर रहे हैं, उनके खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं.. आइये समझाते हैं पूरा मामला आखिर है क्या?

योगी के गढ़ में बीजेपी में पड़ी फूट ?

दरअसल नगर विधायक डॉ आरएमडी कई मुद्दों पार्टी लाइन से हटकर बयानबाजी करते हैं और सोशल मीडिया पर खुलकर अपनी राय रखते हैं.इसी तरह आजकल पीडब्लूडी के सहायक अभियंता केके सिंह के तबादले के मामले को लेकर भी नगर विधायक सोशल मीडिया पर पोस्ट लिख रहे हैं. इसी के साथ एक ऑडियो टेप भी डा. अग्रवाल का वायरल हो रहा है जिसमें वे एक बीजेपी कार्यकर्ता से बात कर रहे है. बीजेपी कार्यकर्ता कुछ लोगों की शिकायत कर रहा है कि वे लोग एक परिवार के बच्चियों को छेड़ते थे, अब मामला बढ़ गया है मार पीट हो गयी है.. लेकिन पुलिस कोई कार्रवाई नही कर रही है. हालाँकि डा. अग्रवाल कार्यकर्ता को लिखित शिकायत दर्ज करवाने की बात करते हैं और मदद का भरोसा देते हैं.

लेकिन इस बातचीत के दौरान डा. अग्रवाल बीजेपी कार्यकर्ता से जातिगत टिप्पणी भी करते हैं जिसके बाद ये मामल तूल पकड़ लिया है वहीँ कुछ डॉ. राधा मोहन दास अग्रवाल ने कुछ दिन पहले ही फेसबुक पर पोस्ट करके योगी सरकार की कानून व्यवस्था पर उठाया था. उन्होंने कहा था कि उन्हें खुद के विधायक होने पर शर्म आ रही है उन्होंने डा. जायसवाल के खिलाफ एक कड़ा बयान दिया है. 

पूरे विवाद में सामने आया रवि किशन का बयान 

इस पूर मामले पर रवि किशन का कहना है कि विधायक राधा मोहन हमेशा पार्टी विरोधी बातों को तूल देकर जनता को भ्रमित करने का कार्य कर रहे हैं. वह गोरखपुर में हो रहे विकास कार्यों को बाधा पहुंचाने का कार्य लगातार वह कर रहे हैं. वह अनाप-शनाप बयानों से पार्टी की छवि को धूमिल कर रहे हैं. रवि किशन ने बताया कि अभी हाल में ही फेसबुक व ट्विटर पर उन्होंने अपने विधायक होने पर गुस्सा आता है, ऐसा गैर जिम्मेदाराना बयान दिया.वह लगातार पार्टी के पदाधिकारियों के खिलाफ विधायक, सांसद के खिलाफ झूठे आरोपों व बे बुनियादी बातों से जनता को गुमराह करने का कार्य कर रहे हैं. अभी उनका एक ऑडियो बहुत तेजी से देश में वायरल हुआ है, जिसमें उन्होंने साफ-साफ उत्तर प्रदेश सरकार पर जातिगत राजनीति करने का आरोप लगाया है, जो की बहुत ही शर्मनाक है. इससे पार्टी के कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों का मनोबल गिरता है.

वहीँ मामला तूल पकड़ने के बाद अब प्रदेश बीजेपी कार्यालय भी सक्रिय हो गया है. बीजेपी  कार्यलय की तरफ से डा. अग्रवाल को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया है और सात दिन के अंदर जवाब तलब किया है.