प्रदूषण के ख़िलाफ़ दिल्ली सरकार का बड़ा फैसला, अब नए इंडस्ट्रियल एरिया में नहीं लगेंगी नई मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट्स!

दिल्ली सरकार ने प्रदूषण को रोकने के लिए लिया बड़ा फैसला। अब नए इंडस्ट्रियल एरिया में नई मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट्स नहीं लग पाएंगी। वहीं पुरानी चल रहीं यूनिट्स को दूसरे सेक्टर में बदलने का मौका दिया जाएगा। सरकार द्वारा इसका नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया गया है।

Delhi Pollution
Credits The Economic Times

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का एलान!

Kejriwal
Credits The Indian Express

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एलान कर दिया है कि शहर के इंडस्ट्रियल इलाकों में अब किसी भी नई मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट को मंजूरी नहीं दी जाएगी। अब सिर्फ़ सर्विस सेक्टर और हाई-टेक इंडस्ट्रीज को ही यूनिट लगाने की इजाजत मिलेगी। बता दें कि पुराने इंडस्ट्रीयल एरिया में जो मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट्स लगी हैं उन्हें भी बंद करके सर्विस सेक्टर या टेक इंडस्ट्री में बदला जाएगा। यह प्रस्ताव केंद्र सरकार के पास भी भेजा गया था जहां से इसे मंजूरी प्राप्त हो गई है।

Also read: आज से खुल रहे हैं असम, उत्‍तराखंड, हिमाचल प्रदेश, आंध्र प्रदेश जैसे राज्यों में स्कूल, लेकिन अब भी देशभर में कई जगह नहीं देख पाएँगे बच्चे स्कूलों की शक्ल!

केजरीवाल का कहना है कि दिल्ली के इंडस्ट्रियल एरिया में अभी तक जमीनें महंगी थीं। इसी वजह से आईटी, मीडिया, एचआर सर्विसेज, कॉल सेंटर्स, बीपीओ, टीवी प्रोडक्शन हाउस, मार्केट रिसर्च, प्लेसमेंट एजेंसी और अन्य प्रोफेशनल्स अपना ऑफिस यहां नहीं खोल पाते थे। ऐसी ज्यादातर कंपनियां गुरुग्राम, नोएडा और फरीदाबाद चली जाती थीं।

प्रदूषण कम करने के लिए ये है एक बड़ा फैसला!

उन्होंने बताया है कि अब ऐसी कंपनियों को दिल्ली के इंडस्ट्रियल एरिया में ही सस्ते दामों पर जगह दी जाएगी।
दिल्ली में प्रदूषण कम करने के लिए ये एक बड़ा फैसला माना जा रहा है। मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट्स से ही ज्यादा प्रदूषण होता था जिस पर अब रोक लग पाएगी।

Also read: पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने जबरदस्त अंदाज में खेला बास्केटबॉल, स्वरा भास्कर ने ट्वीट कर तारीफ में कही यह बात..