दिल्ली क्राइम ब्रांच ने किया नकली नोट छापने वाले गिरोह का भंडाफोड़

रविवार को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने नकली नोटों छापने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ किया। इसके साथ ही पुलिस ने 34.75 लाख रुपये के नकली नोट भी बरामद किए और तीन लोगों को गिरफ्तार किया।

पुलिस ने गिरोह से आठ रंग, एक प्रिंटर और चार स्याही के डिब्बे बरामद किए हैं। उनके पास से नकली नोट भी मिले हैं।

पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए तीन अभियुक्तों में राजपाल, अजीम और आशीष जैन थे।

दिल्ली, एनसीआर और अन्य क्षेत्रों में नकली नोटों को फैलाने वाले गिरोह के नेटवर्क के बारे में जानकारी प्राप्त करने के बाद पुलिस ने एक रणनीति तैयार की।

उन्हें 19 मई को सूचना मिली थी कि आशीष जैन नकली नोटों की सप्लाई करेगा। मौके पर क्राइम ब्रांच की टीम ने जैन को गिरफ्तार किया और उसके पास से पुलिस ने डेढ़ लाख रुपये के नकली भारतीय नोट बरामद किए।

पुलिस ने आशीष जैन के सहयोगी राजपाल राजू से पूछताछ के बाद उसके पास से 3.13 लाख रुपये के नकली नोट बरामद किए। उन्होंने उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में उनके कार्यालय में 62,000 रुपये के बिना कटे 50 मुद्रित करेंसी नोट और नोट बनाने के लिए इस्तेमाल किए गए उपकरण भी बरामद किए।

राजपाल राजू के सहयोगी अजीम अहमद को गाजियाबाद में राजपाल राजू के कार्यालय से गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने 26.37 लाख रुपये मूल्य के कागज की 453 बिना काटी चादरें जब्त कीं। साथ ही आठ प्रिंटिंग प्रूफ प्लेट भी मिलीं।

गिरफ्तार किए गए तीन लोग अपने सहयोगियों के माध्यम से छोटे शहरों में नकली नोटों की छपाई, प्रोसेसिंग और बिक्री में शामिल थे।

पुलिस द्वारा पूछताछ में उत्तर प्रदेश में उन फैक्ट्रियों के स्थानों का भी पता चला, जहां नोट छापे गए थे।