कोरोना वैक्सीन की सबसे ज्यादा खुराक यूपी और केरल को, जानिए आपके राज्य को कितनी मिलने वाली है

कोरोना महामारी से लड़ने के लिए भारत ने दुनिया में सबसे अधिक वैक्सीन की खरीदी की है. अब टीकाकरण के लिए देश के राज्यों में इसका बंटवारा रिस्क फैक्टर के आधार पर होगा. स्वास्थ्य कर्मियों और कोरोना महामारी के दौरान सबसे आगे काम करने वाले लोगों को कवर करने के बाद वैक्सीन की डोज ऐसे राज्यों को भेजी जाएगी जहां 50 साल से ज्यादा उम्र के लोग ज्यादा हैं. इसका मतलब यह हुआ कि कोरोना वैक्सीन का बंटवारा उन राज्यों में ज्यादा होगा जहां बुजुर्ग आबादी अधिक है. आइए जानते हैं किन राज्यों को कितनी वैक्सीन की डोज मिलेगी.

कोरोना वैकसीन
Photo-livehindustan.com

प्राथमिकता के आधार पर मिलेगी वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन की डोज बुक करने के बाद अब भारत की प्राथमिकता जरुरत के अनुसार लोगों तक इसको पहुंचाने की है. इसके लिए केन्द्र सरकार ने 113 पन्नों की एडवाइजरी जारी की है. जिसमें बताया गया है कि इस आधार पर राज्यों को कोविड वैक्सीन के डोज दिए जाएंगे. इसके अनुसार पहले चरण मे स्वास्थ्य कार्यकर्ता, दूसरे चरण में अग्रिम पंक्ति में काम करने वाले कार्यकर्ता तथा तीसरे चरण में 50 साल से कम उम्र के लोगों को टीका लगाया जाएगा.

यह भी पढ़ें- कोरोना महामारी से इस देश के प्रधानमंत्री की हुई मौत

इसके अलावा जिन राज्यों में डाइबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर के मरीज हैं, उन्हें कोरोना वैक्सीन के अधिक डोज मिलेंगे. इसका मतलब यह हुआ है कि तमिलनाडु की आबादी कम होने के बावजूद उसे अन्य राज्यों की तुलना में ज्यादा वैक्सीन मिलेगी.

कोरोना वैक्सीन
Photo-navbharattimes.indiatimes.com

इन राज्यों को मिलेगी इतनी डोज

उत्तरप्रदेश में 15 प्रतिशत लोग 50 साल से अधिक उम्र के हैं, लेकिन जनसंख्या अधिक होने के कारण यूपी के खाते में सबसे अधिक वैक्सीन आएगी. इसके  बाद महाराष्ट्र का नंबर आएगा यहां 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों की जनसंख्या काफी ज्यादा है इसके अलावा मरीजों की संख्या भी अधिक है. इसके बाद पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु का नंबर आएगा. नेशनल फेमिली वेलफेयर के ऑकड़ों के अनुसार केरल में 25 प्रतिशत से अधिक लोग डायबिटीज से ग्रसित है. इस हिसाब से केरल को सबसे ज्यादा वैक्सीन मिलने की संभावना है.

तमिलनाडु की बात करें तो यहां  की जनसंख्या 7.6 करोड़ और बिहार की 12.3 करोड़ है, लेकिन बिहार की केवल 1.8 करोड़ आबादी 50 वर्ष से अधिक उम्र की है और तमिलनाडु की 2 करोड़ है. इसलिए तमिलनाडु के खाते में अधिक वैक्सीन आएगी.

Also read- Take A Look At The ‘Most Followed’ Celebrity Social Media Handles